अल्मोडा में स्थित है माँ स्याही देवी मंदिर, एक रात में बन कर तैयार हुआ भव्य मंदिर का क्या है चमत्कार

bikram

हमने आपको पहले ही बताया था कि शीतलाखेत उत्तराखंड राज्य के अल्मोडा जिले में एक पर्यटक आकर्षण है। यह स्थान अल्मोडा जिला मुख्यालय से 36 किमी की दूरी पर स्थित है। माँ स्याही देवी मंदिर शीतलाखेत की पहाड़ी पर स्थित है, यहां तक ​​पहुंचने के लिए ट्रैकिंग और पैदल यात्रा करनी पड़ती है। शीतलाखेत अपने आप में प्राकृतिक सौन्दर्य से भरपूर है।

Siyahi Devi Mandir, Almora

400 साल पहले बना था शहर पर मंदिर का इतिहास, उससे भी पुराना

यह स्थान लगभग चार सौ वर्षों तक कुमाऊँ का सांस्कृतिक एवं राजनीतिक क्षेत्र रहा है, जिसे चंद वंश के राजा बालो कल्याण चंद ने बसाया तथा अंग्रेजों द्वारा विकसित किया। यहां की प्राकृतिक छटा अनोखी है, जिसके कारण यहां साल भर पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है, पर्यटकों के लिए यहां कई ट्रैकिंग कैंप भी लगे हुए हैं, जिनमें डिस्कवरी नाम का कैंप विश्व प्रसिद्ध है।

यहां से आपको हिमालय का बहुत अच्छा नजारा देखने को मिलता है। यहां का नजारा देखकर ब्रिटिश शासन में अंग्रेजों ने भी यहां बंगले बनवाए, जिसे अब बोरा स्टेट के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर देवी काली को समर्पित है और यहां स्याही देवी की एक मूर्ति भी है जो बहुत पुरानी है और इस तरफ काली मां की एक मूर्ति भी है, जिसकी स्थानीय लोग मंदिर में पूजा करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण कत्यूरी राजाओं ने एक रात में करवाया था।

Siyahi Devi Mandir, Almora

इसी मंदिर में स्वामी विवेकानन्द ने करी अज्ञात रहकर तपस्या

पहले यह मंदिर यहां से आधा किलोमीटर की दूरी पर स्थित था, कहा जाता है कि स्वामी विवेकानन्द ने यहां कुछ दिनों तक तपस्या की थी। स्याही देवी का पुराना मंदिर घने जंगलों से घिरा हुआ था। आसपास के लोग इस जगह को वीरान छोड़कर ज्यादा नहीं गए क्योंकि यहां शेरों और बाघों का डर ज्यादा था। इसलिए बाद में इस मंदिर से स्याही देवी की मूर्ति को शीतलाखेत के शीर्ष पर स्थापित किया गया। यह स्थान अब एक भव्य मंदिर बन गया है। आज भी इस मंदिर में दाल-चावल चढ़ाया जाता है।

मंदिर के पास ही भैरव जी का मंदिर है, यहां प्रसाद के रूप में खिचड़ी चढ़ाई जाती है, लोगों का मानना ​​है कि स्याही देवी की पूजा के बाद जब तक आप भैरव जी के दर्शन नहीं करेंगे तब तक पूजा अधूरी मानी जाएगी। ऐसा माना जाता है कि स्याही देवी अल्मोडा के राजाओं की कुल देवी थी, यहां के राजा देवी की पूजा करते थे। मंदिर के मुख्य पुजारी के अनुसार, मंदिर 11वीं शताब्दी का है और मंदिर में भगवान गणेश की मूर्ति 1254 में स्थापित की गई थी। जो लोग इस स्थान को पूरे मन से समर्पित करते हैं, उनकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु अपने परिवार के साथ यहां आकर घंटियां चढ़ाते हैं और भंडारा करते हैं।

एक ही दिन में रंग की दिखती है माता की मूर्ति

धारी देवी की तरह यहां भी माना जाता है कि देवी तीन रूपों में नजर आती हैं। सबसे पहले, जब सूर्य उगता है, तो देवी सुनहरे रंग की दिखाई देती हैं, उसके बाद दिन में वह काली हो जाती हैं और शाम को जब दक्षिण दिशा से किरणें पड़ती हैं, तो वह गहरे रंग की दिखती हैं। इसके साथ ही आज दर्शन करने आने वाले श्रद्धालु स्याही देवी के प्राचीन और नवीन मंदिरों के भी दर्शन करते हैं।

Siyahi Devi Mandir, Almora

स्याही देवी मंदिर के पास स्थानीय देवताओं धामस, सिद्धपुर, धटवाल, चन्ना के गांव हैं। मंदिर की ओर ऊपर पहाड़ी पर चढ़ने पर हिमालय का विशाल दृश्य देखने को मिलता है। हिमालय का पूरा नजारा देखने के लिए यह सबसे अच्छी जगह है।

कैसे पहुँचें स्याही देवी मंदिर

स्याही देवी मंदिर अल्मोडा जिले में है, जहां पहुंचने के लिए आप रेल, सड़क या हवाई मार्ग से नजदीकी पड़ाव पर पहुंच सकते हैं। अल्मोड़ा पहुंचने के बाद आपको स्याही देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए 3 किमी की चढ़ाई करनी होगी।

सड़क मार्ग – इस मंदिर तक पहुंचने के लिए सड़क ही आखिरी और सबसे अच्छा वैकल्पिक रास्ता है। अल्मोडा दिल्ली से 390 किमी दूर है। जिस पर बस या निजी वाहन से आप लगभग 9 घंटे में अल्मोड़ा पहुंच जाएंगे। हलद्वानी जिले से बसें उपलब्ध हैं।

Siyahi Devi Mandir, Almora
  • दिल्ली से स्याही देवी मंदिर की दूरी: 500 K.M.
  • देहरादून से स्याही देवी मंदिर की दूरी: 308 K.M.
  • हरिद्वार से स्याही देवी मंदिर की दूरी: 290 K.M.
  • ऋषिकेश से स्याही देवी मंदिर की दूरी: 265K.M.
  • चंडीगढ़ से स्याही देवी मंदिर की दूरी: 467 K.M.

हवाई मार्ग- अल्मोड़ा का निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर है, जहां एक प्रसिद्ध कृषि विश्वविद्यालय है। पंतनगर हवाई अड्डा अल्मोडा से लगभग 127 किमी दूर है। पंतनगर से बाकी का रास्ता आपको बस से पूरा करना होगा।

रेल मार्ग – स्याही देवी मंदिर (अल्मोड़ा) तक पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम और हल्दीवानी है। यह काठगोदाम रेलवे स्टेशन, अल्मोडा से लगभग 90 किमी दूर स्थित है।

Leave a comment