पहाड़ों के लिए सर दर्द बन चुके पिरूल में दिखा एक लड़की को अवसर, शुरू किया पिरूल राखी स्टार्टअप देश ही नहीं विदेशी भी हो गए दीवाने

bikram

ऐसा कहा जाता है कि प्रकृति हमें जो कुछ भी दे रही है वह तब तक बेकार नहीं है जब तक आप उसे इस्तेमाल करने का सही तरीका नहीं जानते। उत्तराखंड में भी लोगों को यहां तक ​​कि जंगलों को भी पिरूल से होने वाली समस्या का सामना करना पड़ रहा है। पहाड़ों में इसे जंगलों के लिए अभिशाप माना जाता है, लेकिन अल्मोडा की एक बेटी ने एक ऐसा पिरूल राखी स्टार्टअप शुरू किया है जो अब न सिर्फ पहाड़ की बेटियों को रोजगार दे रही है बल्कि पिरूल को मांग उपयोगी हस्तशिल्प में बदल कर लोगों की मदद भी कर रही है।

Rakhi startup from pirul

चीड़ की पत्तियों यानि पिरूल से कई तरह के उत्पाद तैयार किये जा रहे हैं। रक्षाबंधन के अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाली बहनें और बेटियां पिरूल से राखियां तैयार कर लोगों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश दे रही हैं।

हम बात कर रहे हैं अल्मोडा के सल्ट ब्लॉक की रहने वाली गीता पंत की, जो ऐसी ही प्रतिभावान बेटियों में से एक हैं। उन्होंने न सिर्फ स्टार्टअप किया बल्कि बेरोजगारी की समस्या से भी खुद ही निपटीं। हम आपको बता रहे हैं कि मनीला गांव की रहने वाली गीता ने पिरूल से कई बेहतरीन उत्पाद बनाए हैं। वह पिरूल से हेयर क्लिप, बास्केट, पेन स्टैंड, ईयररिंग्स और वॉल हैंगिंग जैसे कई उत्पाद बना रही हैं। ये सभी आइटम गेटी जी प्रसिद्ध हैं और उन्हें न केवल भारत से बल्कि दुनिया भर से ऑर्डर मिल रहे हैं।

Rakhi startup from pirul

सीमा कुछ अलग करना चाहती है और इसके लिए वह जानती है कि रक्षाबंधन आ रहा है। वह इस अवसर को खोना नहीं चाहती थीं और रक्षाबंधन के अवसर पर उन्होंने पिरूल से खूबसूरत राखियां बनाना शुरू कर दिया, जिनकी न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी काफी मांग है। गीता बताती हैं कि वह पिछले 2 साल से पिरूल से राखियां तैयार कर रही हैं। इन राखियों को उत्तराखंड के साथ-साथ अन्य राज्यों में भी काफी पसंद किया जाता है।

पिरूल से बनी राखियों की मांग विदेशों से भी आ रही है, क्योंकि ये राखियां इको-फ्रेंडली हैं। पहले राखियाँ उन उत्पादों से बनाई जाती थीं जो आसानी से उपलब्ध होते हैं, लेकिन उसके बाद लोगों ने बाज़ार से डीएम राखियाँ खरीदनी शुरू कर दीं जो प्लैक्टिक और अन्य हानिकारक तत्वों से बनी होती हैं। पिरूल ओएस कोट किमी से राखी बनाने की अवधारणा गीता के लिए न केवल व्यापार के लिहाज से फायदेमंद है, बल्कि इससे पर्यावरण को भी मदद मिल रही है।

Rakhi startup from pirul

गीता ने बताया कि उन्हें विदेशों से भी ऑर्डर मिल रहे हैं। पिछले वर्ष उन्होंने अमेरिका को राखी भेजी थी जो पूरी तरह से पिरूल से बनी जैविक राखी है, जिससे उन्हें अच्छी आय हुई। जम्मू-कश्मीर के साथ ही गाजियाबाद, दिल्ली, देहरादून, नोएडा, फरीदाबाद से भी पिरूल की राखियों की मांग आ रही है।

Leave a comment