उत्तराखंड के इस मंदिर में एक साथ दिखते हैं 33 देवी-देवता, पाताल भुवनेश्वर गुफा में छिपा है दुनिया के अंत का रहस्य

bikram

भारत यदि देवताओं की भूमि है, तो यहां पाए जाने वाले देवताओं की संख्या की तुलना किसी अन्य धर्म से नहीं की जा सकती। भारत में आपको किसी भी चौराहे पर मंदिर मिल जाएगा, चाहे वह कोई भी देवता हो, लोग वहां जाकर पूजा करेंगे। पहले के समय में लोगों के पास इतने मंदिर नहीं होते थे, वे गुफाओं में अपने देवताओं की पूजा करते थे। आप कह सकते हैं कि ये धार्मिक स्थल हैं। उत्तराखंड भी एक ऐसी जगह है जहां आपको कई गुफाएं देखने को मिलेंगी। आज हम भारत की पाताल भुवनेश्वर गुफा की एक ऐसी गुफा के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसके बारे में कहा जाता है कि इसमें भारत के 33 करोड़ देवी-देवता एक साथ निवास करते हैं, जिसका नाम है पाताल भुवनेश्वर।

Patal Bhuvneshwar

रहस्य से भरी पाताल भुवनेश्वर गुफा में हो सकता है पाताल का रास्ता

हम बात कर रहे हैं पिथौरागढ़ की पाताल भुवनेश्वर गुफा की। भारत की पवित्र भूमि पर ऐसे कई स्थान हैं जो अपना पौराणिक इतिहास और प्राकृतिक सौंदर्य संजोए हुए हैं और इसी वजह से ये पूरी दुनिया में पहचाने जाते हैं। पाताल भुवनेश्वर गुफा या मंदिर अपने आप में अनोखा है। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में स्थित यह गुफा अब एक मंदिर से ज्यादा एक पर्यटक स्थल बन गई है। हर साल कई पर्यटक इस जगह पर आते हैं। यह मंदिर रहस्य और सौंदर्य के अनूठे संगम के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर जमीन पर नहीं बल्कि समुद्र तल से 90 फीट नीचे है, जिसके लिए बेहद संकरे रास्तों से होकर गुजरना पड़ता है। इस स्थान का उल्लेख स्कंद पुराण में भी है और इस मंदिर की महिमा का वर्णन है।

ऐसा कहा जाता है कि इस गुफा की खोज त्रेता युग में राजा ऋतुपर्ण ने की थी, जो इसे खोजने वाले पहले मानव थे। अधिशेष, नागाओं के राजा थे जो उनसे यहीं मिले थे। ऐसा कहा जाता है कि राजा ऋतुपर्ण इंसानों द्वारा इस मंदिर की खोज करने वाले पहले व्यक्ति थे।राजा ऋतुपर्णा को इस गुफा के अंदर ले गए, वहां उन्हें एक ही स्थान पर सभी देवी-देवताओं और भगवान शिव के दर्शन करने का सौभाग्य मिला। कहा जाता है कि उसके बाद इस गुफा की चर्चा नहीं हुई लेकिन द्वापर युग में पांडवों ने इस गुफा को ढूंढा और यहीं रहकर भगवान शिव की पूजा की। इस कलियुग में कहा जाता है कि इस गुफा की खोज आदि गुरु शंकराचार्य ने की थी।

Patal Bhuvneshwar

कैसा है मंदिर में जाने का रास्ता उतारना पड़ता है जमीन में 90 फीट

मंदिर में प्रवेश करने से पहले आपको मेजर समीर कटवाल का स्मारक दिखाई देगा। कुछ दूर चलने के बाद आपको एक ग्रिल गेट दिखेगा पाताल भुवनेश्वर, यहीं से मंदिर शुरू होता है। भारत में मुख्य मंदिर तक जाने के लिए आपको कई सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं या पहाड़ पर चढ़ना पड़ता है, लेकिन पाताल भुवनेश्वर में आपको जमीन से 90 फीट नीचे जाना पड़ता है। इस मंदिर में एक बहुत ही संकरे रास्ते से होकर गुजरने के बाद दर्शन किए जाते हैं। थोड़ा आगे चलने पर इस गुफा की चट्टानों पर ऐसी कलाकृति बनती है जो 7 सूंड वाले ऐरावत हाथी की तरह दिखती है। पुनः शैल कला दिखाई देती है जिसमें नागों के राजा आदिशाह को पृथ्वी को संतुलित करने के लिए अपना सिर इस प्रकार रखा हुआ दिखाया गया है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर में चार द्वार हैं जिन्हें रणद्वार, पापद्वार, धर्मद्वार और मोक्षद्वार के नाम से जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि रावण की मृत्यु के बाद पहला पापद्वार बंद कर दिया गया था। इसके साथ ही बाद में द्वार युग में कुरूक्षेत्र के युद्ध के कारण रणद्वार को भी बंद कर दिया गया था। यहां से आगे चलने पर चमकदार पत्थर भगवान शिव के बालों का प्रतिनिधित्व करते हैं। पौराणिक मान्यता है कि इस मंदिर में भगवान गणेश का कटा हुआ सिर स्थापित है। इतना ही नहीं इस मंदिर में प्रकृति द्वारा बनाई गई अन्य कलाकृतियां भी मौजूद हैं।

Patal Bhuvneshwar

आसां नहीं है पाताल भुवनेश्वर का रहस्य यहां छुपा है दुनिया के अंत का राज

तमाम रहस्यों के बीच इस गुफा में दुनिया के अंत का रहस्य भी छिपा है। इस गुफा के अंदर जाने में काफी दिक्कतें आती हैं। इस गुफा के अंदर जाने पर और भी कई गुफाएं मिलती हैं। इस गुफा के अंदर बहुत अंधेरा है लेकिन अब रोशनी की व्यवस्था कर दी गई है।इस गुफा के अंदर 180 सीढ़ियां पार करने के बाद एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है। गुफा के अंदर जाते ही एक कमरा मिलता है, जिसमें करीब 33 हजार देवी-देवताओं की मूर्तियां हैं, यहां बहता पानी भी मिलता है। कहा जाता है कि सबसे पहले इसी गुफा में भगवान गणेश की पूजा की जाती है।

Patal Bhuvneshwar

अगर आप रेलवे के जरिए यहां आना चाहते हैं तो टनकपुर रेलवे स्टेशन आपके सबसे नजदीक होगा। आप चाहें तो काठगोदाम रेलवे स्टेशन से भी यहां पहुंच सकते हैं। अगर आप हवाई मार्ग से यहां आना चाहते हैं तो पंतनगर हवाई अड्डा यहां से 226 किलोमीटर दूर है।

Leave a comment