अब एक घंटे से भी कम होगा मसूरी का सफर, बनने जा रहा है एशिया का दूसरा बड़ा दून-मसूरी रोपवे

bikram

विशेषकर इस मानसून के मौसम में हर दूनवासी दून से सड़क यात्रा के लिए उत्सुक होगा। लेकिन आपकी यात्रा को तेज़ और सुखद बनाने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने एक रोपवे परियोजना शुरू की, जो दून को मसूरी से रोपवे के माध्यम से जोड़ेगी। रोपवे की लंबाई पुरकुल से मसूरी तक 5.5 किमी होगी। दून-मसूरी रोपवे का निर्माण फ्रांस की पोमा इंटरनेशनल कंपनी 400 करोड़ की लागत से करेगी।

  • रोपवे का प्रारंभ बिंदु: पुरकुलगांव गांव, देहरादून
  • रोपवे का अंतिम बिंदु: एमडीडीए टैक्सी स्टैंड
  • मसूरीरोपवे की लंबाई: 5.5 किमी
  • यह रोपवे देहरादून और मसूरी के बीच यात्रा के समय को लगभग 10-12 मिनट तक कम कर देगा।
  • इस रोपवे से देहरादून से मसूरी तक पहुंचा जा सकता है
Doon To Mussorie ropeway

इस रोपवे निर्माण का मुख्य उद्देश्य मसूरी में यातायात के दबाव को कम करना है। यदि यह योजना सफल रही तो इससे पर्यावरण को भी फायदा होगा, इससे प्रदूषण भी कम होगा और मसूरी में लोड भी कम होगा।

जानिए दून मसूरी रोपवे की खासियत

Length5.5 kms
Elevation1,037 m
Capacity1000 PPHPD Line
Speed6.5 m/s
Travel Time (approx.)16 minutes
Towers23 Cabins both sides (53)
Seating Capacity8
Terminal Station2

सफ़र को कर देगी एक घंटे से भी कम

इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि यह रोपवे मसूरी तक एक घंटे की ड्राइव को कम कर देगा और मसूरी पहुंचने में लगभग 16 मिनट लगेंगे।रोपवे हिल स्टेशन में प्रदूषण को कम करने में भी मदद करेगा। चूंकि मसूरी तक कम ही वाहन पहुंचेंगे। ट्रैफिक की समस्या भी कम होगी.यह बारिश और बर्फ दोनों में काम कर सकता है।

Doon To Mussorie ropeway

ताकि यात्री भारी बारिश या बर्फबारी के दौरान बिना किसी परेशानी के आसानी से यात्रा कर सकें।रोपवे से एक बार में लगभग 1000-1200 लोगों को ले जाया जा सकता है।लोगों के लिए परिवहन आसान होगा.इससे मसूरी में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और रोपवे परियोजना से मसूरी में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।केबल कार दोनों गंतव्यों के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण बन जाएगी।

एम्पायरियन के प्रबंध निदेशक सैयद जुनैद अल्ताफ ने कहा, देहरादून-मसूरी परियोजना देश की सबसे लंबी यात्री हवाई मोनो-केबल रोपवे होगी, जो 5.5 किमी की दूरी तय करेगी और विश्व स्तर पर शीर्ष पांच में से एक होगी। इसमें देहरादून और मसूरी में दो-दो टर्मिनल शामिल होंगे, और चरण I में ₹300 करोड़ और चरण II में ₹150 करोड़ की लागत आएगी।

TAGGED:
Leave a comment