कभी अपनी समृद्धि के लिए लड़ाई की वजह रही है “पिथौरागढ़ की सोरघाटी”, अब बनी है मिनी कश्मीर के नाम से पहचान

bikram

हर पहाड़ी जो घर से दूर रहता है। उनके दिल का एक छोटा सा हिस्सा हमेशा उनके मूल स्थान के लिए आरक्षित है जो उन्हें अपनी जड़ों से जोड़ता है। पहाड़ की कहानी हर जगह एक जैसी है, इसका हर हिस्सा पलायन के घाव से जूझ रहा है। वे लोग जो नौकरी के लिए बाहर जा रहे हैं और वहीं रहकर कमाते हैं। वे भूल रहे हैं कि वे अपने पीछे एक बड़ा खजाना छोड़ रहे हैं। आज हम बात कर रहे हैं एक ऐसी घाटी की जो खुद भी इसी बीमारी से पीड़ित है। जो कि पिथौरागढ़ की सोरघाटी है।

Sorghati Of Pithauragarh

पिथौरागढ़ के आदिकांश त्यौहार उपजे हैं इसी जमीन से

कुमाऊँ में कई त्यौहार हैं जो बहुत धूमधाम से मनाए जाते हैं जैसे होली, हिलजात्रा, हरेला, मोस्टामानू मेला, कपिलेश्वर, थलकेदार महाशिवरात्रि मेला आदि। ये सभी त्यौहार पिथौरागढ़ के सोरघाटी के बड़े आकर्षण हैं। प्राकृतिक सौन्दर्य की समृद्धि ऐसी है मानो प्रकृति ने इसे विशेष लाड़-प्यार, लगाव और दुलार से सजाया हो।

Sorghati Of Pithauragarh

सोरघाटी उत्तराखंड की एक ऐसी जगह है जहां की जलवायु हमेशा गुलजार रहती है।सर्दियों में यहां के लोग कंबल और रजाई में छिपने के बजाय चंडाक, उल्कादेवी, थलकेदार जैसी खूबसूरत चोटियों पर एक-दूसरे के साथ बर्फ से खेलना पसंद करते हैं। कुछ कलात्मक प्रकृति के लोग बर्फ से शिव, पार्वती, गणेश आदि सभी प्रकार के पुतले बनाते हैं और अपनी अद्भुत, सुंदर कलाकृति से उन्हें मोहित कर लेते हैं।दूसरी ओर, कुछ लोग इन दिनों बर्फ के खेलों के लिए खलिया टॉप, नंदा देवी (मुनस्यारी) जैसे उच्च हिमालयी क्षेत्रों का भी रुख करते हैं।

पिथौरागढ़ से लेकर नेपाल तक फैली है सोरघाटी

सोरघाटी अन्य राज्यों से भी लोगों को आकर्षित करती है। यहां चंपावत की चमक भी है, धारचूला का वैभव भी है, मुनस्यारी की खुशबू भी है और नेपाल के बच्चों के लिए नमक भी है, इसका मतलब है कि नेपाली भाइयों की आजीविका और शिक्षा की व्यवस्था भारत में है।

Sorghati Of Pithauragarh

घाटी की अनूठी भौगोलिक संरचना, सामाजिक और सांस्कृतिक विशेषताएं, मैदान जो प्राचीन भारत-तिब्बत व्यापार के लिए जाना जाता है, यहां से आप लिपुलेख दर्रा, मुनस्यारी, रालम, मिलम, नामिक, पोंटिंग आदि की खूबसूरत पंचाचूली चोटियों से होते हुए कैलाश यात्रा पर जा सकते हैं। ओम पर्वत (वृहत्पुराण) आदि रहस्यमयी स्थानीय विशेषताओं के कारण पिथौरागढ़ की देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अच्छी पहचान है।

पिथौरागढ़ की सुंदरता से मंत्रमुग्ध लोग अक्सर इसकी तुलना कश्मीर से करते हैं, इसे अक्सर पिथौरागढ़ को ‘छोटा कश्मीर’ कहा जाता है, लेकिन सच कहें तो पिथौरागढ़ अतुलनीय है। यह घाटी में अपनी ऐतिहासिक कहानियाँ होती हैं और चंद राजवंश और नेपाल राजवंश की समृद्ध आत्मा और रणनीतिक स्थिति के कारण।

पिथौरागढ क्षेत्र का प्राचीन नाम “सोर” था। सोर शब्द का प्रथम प्रयोग राजा आनंदमल के बास्ते-राय शिलालेख (1430-1442) में मिलता है। क्षेत्र के बाहर के विवरणों में सोर शब्द का उल्लेख द्युतिवर्मा के तालेश्वर ताम्रपत्र में मिलता है।

कैसे पहुंचे पिथौरागढ़ की सोरघाटी

हवाई मार्ग द्वारा: निकटतम हवाई अड्डा पिथौरागढ़ में नैनीताल सैनी हवाई अड्डा है, जो लगभग 91 किलोमीटर दूर स्थित है। हवाई अड्डे से, आप यह पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या साझा कैब ले सकते हैं। यात्रा में लगभग 3-4 घंटे लग सकते हैं।

Sorghati Of Pithauragarh

ट्रेन द्वारा: निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जो भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यह से, आप टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस ले सकते हैं। हरिद्वार और चोपता के बीच की दूरी लगभग 225 किलोमीटर है।

  • दिल्ली से पिथौरागढ़ की दूरी: 488 KM
  • देहरादून से पिथौरागढ़ की दूरी: 500 KM
  • हरिद्वार से पिथौरागढ़ की दूरी: 436 KM
  • काठगोदाम से पिथौरागढ़ की दूरी: 245 KM
  • हल्द्वानी से पिथौरागढ़ की दूरी: 243 KM

सड़क मार्ग से: सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, और आप टैक्सी किराए पर लेकर या आसपास के कस्बों और शहरों से बस लेकर वहां पहुंच सकते हैं।

Leave a comment