दुनिया का वनस्पति उद्यान है उत्तराखंड का हर्बल गार्डन, माणा में है देश का सबसे ऊंचा हर्बल गार्डन

bikram

भारत के कई प्राचीन ग्रंथों में इसे हर्बल गार्डन के रूप में वर्णित किया गया है। पर्यटन और भक्ति के साथ-साथ उत्तराखंड भारत और दुनिया के लिए उत्तराखंड का हर्बल गार्डन के रूप में भी काम करता है। इस क्षेत्र में लौंग, तुलसी, आंवला, काला जीरा या बुरांश आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। प्रकृति ने हमें मौसमी बदलाव के साथ उत्पन्न होने वाली बीमारियों से उबरने के लिए फल, सब्जियां, जड़ी-बूटियां उपहार के रूप में दी हैं। यही कारण है कि हमारा आयुर्वेद सदियों से हमें यह शाश्वत सुरक्षा कवच प्रदान करता आ रहा है।

आयुष प्रदेश उत्तराखंड (आयुर्वेदिक उत्तराखंड) का अतीत गौरवशाली कहानियों से भरा है। यहां की जलवायु (पानी और शुद्ध हवा), जैविक मोटे अनाज वाले अनाज से लेकर जड़ी-बूटियों और पौधों की विभिन्न प्रजातियां हमें पोषण से पुनर्जीवित कर रही हैं।

Herbs in Uttarakhand

सदियो से दुनिया का इलाज कर रहा है हिमालय

आज के दौर में जब बड़े पैमाने पर मिलावटी खाद्य पदार्थों का सेवन किया जा रहा है। इसे पीने के बाद लोग बीमार हो रहे हैं। आयुर्वेद के समर्थन की आवश्यकता फिर से महसूस की जा रही है। यहां पारंपरिक चिकित्सा से लेकर दैनिक भोजन तक जड़ी-बूटियां, पौधे, उनके बीज और जड़ें प्रचलित रही हैं।गिलोय, सरसों, जखिया, लॉन्ग, काली मिर्च से। तुलसी, अदरक, लौंग, गिलोय, एलोबेरा जैसे कई पौधे हैं, जो बीमारियों को हराते हैं। इसलिए अपने स्वभाव से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं और बीमारियों को दूर भगाते हैं।

भारत के हिमालयी राज्य उत्तराखंड में भी जैसे-जैसे शहरों का विकास हुआ, एलोपैथिक चिकित्सा और अस्पतालों का उपयोग बहुत बढ़ गया। जैसे-जैसे आयुर्वेद सीमित होता गया, परंपरा से चली आ रही कई बीमारियों के इलाज के लिए सामान्य जड़ी-बूटियों का भी इस्तेमाल किया जाने लगा। अब एलोपैथी को प्राथमिकता दी जा रही है।

Herbs in Uttarakhand

महँगी दवाइयाँ और इलाज से भी बचती है उत्तराखंड में होने वाली औषधि

भारत के मध्य में हिमालय के ऊंचे जंगलों में पाई जाने वाली जड़ी-बूटियां और पौधे लोगों के स्वास्थ्य को बनाए रखने और स्वस्थ रहने और दीर्घायु प्रदान करने के लिए फायदेमंद माने जाते थे।

काला जीरा

जीरे का इस्तेमाल हर घर में किया जाता है, लेकिन शायद आप नहीं जानते होंगे कि जीरे का इस्तेमाल सिर्फ खाने में तड़का लगाने के लिए ही नहीं किया जाता, बल्कि यह छोटे से बीज वाला जीरा कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। यहां हम सामान्य जीरे की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि ज्यादातर घरों में इस्तेमाल होने वाले काले जीरे की बात कर रहे हैं। काला जीरा सर्दी-जुकाम के इलाज में बहुत कारगर बीज है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर जानलेवा वायरस से लड़ने की ताकत देने वाला काला जीरा कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मददगार है।

Herbs in Uttarakhand

मेथी

इस जड़ी-बूटी का उपयोग दवाओं या भोजन में किया जाता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल लेवल, ब्लड शुगर लेवल को कम करना होता है और वजन, पाचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करना होता है, इन सभी समस्याओं का अगर कोई इलाज है तो वह है मेथी, हरी सब्जी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है. सर्दी के मौसम के साथ-साथ डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के पीड़ितों के लिए भी मेथी के पत्तों की सब्जी रामबाण मानी गई है। खास बात यह है कि इसके साथ ही इसके पत्तों को भिगोकर खाने से सभी रोग भी नष्ट हो जाते हैं। विटामिन. यह ए, बी और सी के अलावा कॉपर, जिंक, सोडियम, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम आदि तत्वों से भरपूर होता है।

Herbs in Uttarakhand

तुलसी

अपने धार्मिक महत्व के कारण हर घर के आंगन में मिलने वाला यह पौधा दूसरी संजीवनी के नाम से भी पहचाना जाता है। संतान धर्म में तुलसी का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। ऑसिमम सेक्टम नाम का यह पौधा अपने एंटी-माइक्रोबियल गुणों के कारण श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारियों के इलाज में कारगर है। इसके साथ ही यह एंटी-बैक्टीरियल के रूप में भी काम करता है। शास्त्रों में तुलसी के पौधे को पूजनीय, पवित्र और देवी का दर्जा दिया गया है और घर में भी तुलसी का पौधा लगाना बहुत लाभकारी माना जाता है।

Herbs in Uttarakhand

ब्राह्मी

बकोपा मोननेरी नाम का यह पौधा अपने बौद्धिक गुणों के कारण मस्तिष्क वर्धक के रूप में प्रयोग किया जाता है। ब्राह्मी एसिड, लाइकोसाइड, वैलेटिन आदि तत्वों और यौगिकों से भरपूर ब्राह्मी नदियों के किनारे या नम स्थानों पर पाई जाती है।ब्राह्मी के महत्व को इस मान्यता के अनुसार समझा जा सकता है कि मानसिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है। इसके अलावा यह हृदय रोग के इलाज के लिए भी बहुत उपयोगी है।

दूब घास

दूब घास बारह महीने हरी रहती है। इसी गुण के कारण हर धार्मिक अनुष्ठान की शुरुआत भी दूब घास से की जाती है। किसी भी शुभ कार्य, पूजा-पाठ से पहले भगवान गणेश को दूब अर्पित करने का उल्लेख प्राचीन काल से ही मिलता है।एसिटिक एसिड, फेरुलिक एसिड, फाइबर, विटामिन ए और सी की प्रचुर मात्रा होने के कारण यह मधुमेह, रक्त शुद्धि, मासिक धर्म नियंत्रण के अलावा प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है।

हल्दी

रासायनिक खादों से परे पहाड़ की हल्दी पहाड़ की जैविक हल्दी जितनी गुणकारी है, उतनी ही पवित्र भी मानी जाती है। हल्दी अपने औषधीय एवं औद्योगिक उपयोग के कारण विश्व में अपनी विशेष पहचान एवं स्थान रखती है।भारत के उत्तरी हिमालयी राज्य उत्तराखंड की पहाड़ी हल्दी भी दुनिया भर में हल्दी निर्यात और उत्पादन में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। हल्दी एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-शुगर होने के अलावा पेट की बीमारियों, कैंसर आदि के इलाज के भी गुण रखती है।

Herbs in Uttarakhand

जटामांसी

जटामांसी उच्च हिमालयी क्षेत्र में पाया जाने वाला यह पौधा थकान के साथ-साथ अवसाद और तनाव को भी दूर करने में फायदेमंद है। हृदय, बुखार, मस्तिष्क या सिर से जुड़ी कोई समस्या हो या रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने, हृदय और रक्तचाप आदि ठीक करने के लिए इस पौधे का रोएंदार तना और जड़ अचूक औषधि है।

Herbs in Uttarakhand
Leave a comment