मानसून में उत्तराखंड की कौन सी जगह होती है घुमने लायक, मानसून के दौरान उत्तराखंड में करने लायक चीज़ें

bikram

उत्तराखंड में मानसून का महीना विशेष रूप से जुलाई का महीना बहुत सुहावना होता है। अगर हम पहाड़ में बारिश से होने वाली तबाही को एक तरफ रख दें तो. यहां पूरे समय मौसम बहुत सुहावना रहता है। इस समय के दौरान प्रकृति अपने हरे-भरे और जीवंत रूप में होती है। भव्य हिमालय की गोद में बसे राज्य में इस महीने के दौरान मध्यम वर्षा होती है, जिससे इसके परिदृश्य फिर से जीवंत हो जाते हैं और यह एक हरे-भरे स्वर्ग में बदल जाता है।

यह मौसम कल-कल करती नदियों और कल-कल करते झरनों की आवाज से पहाड़ियों को जीवंत बना देता है, इस अवधि के दौरान कई जंगलों में फूल और जड़ी-बूटियाँ खिलती हैं। सुहावना मौसम और ताज़गी भरा माहौल इसे हिल स्टेशनों पर घूमने, सुरम्य पगडंडियों पर ट्रैकिंग करने और प्रकृति की विस्मयकारी सुंदरता में डूबने के लिए एक आदर्श समय बनाता है।

जानिये क्या-क्या खास होता है इस समय

उत्तराखंड, जिसे लोकप्रिय रूप से “देवताओं की भूमि” या देवभूमि के रूप में जाना जाता है। यह खूबसूरत राज्य उत्तरी भारत में हिमालय की गोद में बसा है। यह मनमोहक क्षेत्र न केवल विस्मयकारी प्राकृतिक सुंदरता से समृद्ध है, बल्कि एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत भी समेटे हुए है जो जुलाई के महीने में जीवंत हो उठती है। यहां कई जीवंत त्योहार और पारंपरिक कला रूप हैं जो इन लुभावने परिदृश्यों और साहसिक अवसरों में विशेष रंग जोड़ते हैं। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि मानसून के दौरान उत्तराखंड का मौसम कैसा रहेगा और इस दौरान आप और क्या-क्या काम कर सकते हैं। उत्तराखंड के गीत, नृत्य और कला जुलाई को एक आनंददायक अनुभव बनाते हैं।

रोमांच के शौकीनों के लिए उत्तराखंड हर समय सुखद रहता है। लेकिन जुलाई में रोमांच के शौकीनों के लिए उत्तराखंड एक रोमांचक समय है। मानसून की बारिश परिदृश्य को बाहरी गतिविधियों के लिए खेल के मैदान में बदल देती है। फूलों की घाटी और रूपकुंड जैसे ट्रैकिंग मार्ग अपने चरम पर हैं, जो रंगों और मनमोहक दृश्यों से सुसज्जित हैं। नदियाँ और झीलें रिवर राफ्टिंग, कायाकिंग और कैनोइंग जैसे रोमांचक जल खेलों के लिए आदर्श बन जाती हैं। साहसी लोग कैंपिंग, वन्यजीव सफारी और पैराग्लाइडिंग में भी शामिल हो सकते हैं, जो उनके उत्तराखंड अनुभव में एक रश जोड़ते हैं।

उत्तराखंड में कहां ले सकते हैं प्रकृति का आनंद आप

हिल स्टेशन: उत्तराखंड में भारत के कुछ सबसे खूबसूरत हिल स्टेशन हैं, और जुलाई उनकी मंत्रमुग्ध कर देने वाली सुंदरता को देखने का सबसे अच्छा समय है। नैनीताल, मसूरी, रानीखेत और अल्मोडा जैसी जगहें हरी-भरी हरियाली और धुंध से ढके पहाड़ों से जीवंत हो उठती हैं। सुहावना मौसम और ताज़गी भरा माहौल चिलचिलाती गर्मी से मुक्ति दिलाता है और शांत वातावरण के बीच स्थानीय व्यंजनों का स्वाद चखता है।

प्रकृति का इनाम: मानसून का मौसम उत्तराखंड को प्राकृतिक प्रचुरता के स्वर्ग में बदल देता है। घाटियाँ, खिलते घास के मैदान और झरने एक मनोरम दृश्य बनाते हैं। फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान, जो एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है, जुलाई के दौरान अपने जीवंत पुष्प कालीन को प्रदर्शित करता है। दुर्लभ हिमालयी फूलों से सजे इस आश्चर्यजनक परिदृश्य में ट्रैकिंग करना किसी अन्य से अलग अनुभव है। इसके अतिरिक्त, उत्तराखंड के राजसी झरने, जैसे केम्प्टी फॉल्स और कॉर्बेट फॉल्स, अपने भव्यतम रूप में हैं, जो एक ताज़ा राहत और लुभावने दृश्य प्रदान करते हैं।

उत्तराखंड को त्यौहार और अध्यात्म बनता है खास

अध्यात्म और त्यौहार: उत्तराखंड को आध्यात्मिकता से समृद्ध वातावरण प्रदान करने का सौभाग्य प्राप्त है और यह कई प्रतिष्ठित मंदिरों और पवित्र स्थलों का घर है। जुलाई में, राज्य भक्ति से गूंज उठता है और विभिन्न धार्मिक त्योहार मनाता है। कांवर यात्रा, जहां भक्त अपने कंधों पर गंगा से पवित्र जल ले जाते हैं, इस महीने के दौरान एक महत्वपूर्ण घटना है। तीर्थयात्री केदारनाथ, बद्रीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री जैसे प्रतिष्ठित मंदिरों में आशीर्वाद लेने के लिए उत्तराखंड आते हैं। वातावरण मंत्रोच्चार और भजनों से भरा हुआ है, जिससे आध्यात्मिक रूप से उत्थानकारी माहौल बनता है जो आगंतुकों पर स्थायी प्रभाव छोड़ता है।

सांस्कृतिक समृद्धि: उत्तराखंड अपनी जीवंत सांस्कृतिक विरासत के लिए जाना जाता है, और जुलाई इसकी परंपराओं को देखने और उनमें डूबने का अवसर प्रदान करता है। कुमाऊँ मानसून महोत्सव, विभिन्न शहरों में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है, इस क्षेत्र के लोक संगीत, नृत्य, कला और व्यंजनों का प्रदर्शन करता है। लंगविर नृत्य और बरदा नाटी जैसे पारंपरिक प्रदर्शन अपनी ऊर्जा और अनुग्रह से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। पर्यटक स्थानीय व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं, पारंपरिक हस्तशिल्प की खरीदारी कर सकते हैं और सांस्कृतिक कार्यशालाओं में भाग लेकर उत्तराखंड की जीवंत संस्कृति के बारे में गहरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

वर्षा ऋतु में कैसा रहता है उत्तराखंड का मौसम और तापमान ?

तापमान: मानसूनी बारिश के ठंडे प्रभाव के कारण जुलाई में उत्तराखंड में हल्का तापमान रहता है। मैदानी इलाकों और निचले इलाकों, जैसे देहरादून और हरिद्वार में, दिन का औसत तापमान 28 डिग्री सेल्सियस से 34 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। नैनीताल, मसूरी और रानीखेत जैसे हिल स्टेशनों में दिन के दौरान तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। अधिक ऊंचाई पर और औली और बद्रीनाथ जैसी जगहों पर तापमान और भी ठंडा हो सकता है, दिन का तापमान 15°C से 20°C के बीच होता है।

बारिश उत्तराखंड में जुलाई वह महीना है जब राज्य में सबसे अधिक वर्षा होती है और इस क्षेत्र में बादल फटने जैसी गतिविधियाँ बहुत आम हैं, जो पूरे क्षेत्र में नियमित वर्षा की विशेषता है। राज्य के विभिन्न हिस्सों में वर्षा की तीव्रता अलग-अलग है, जिसमें नैनीताल, मसूरी और उच्च हिमालयी क्षेत्रों जैसे क्षेत्रों में अधिक वर्षा दर्ज की गई है।

मानसून की बारिश परिदृश्य में जीवन लाती है, जिसके परिणामस्वरूप हरी-भरी हरियाली और बहती धाराएँ आती हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि भारी वर्षा से भूस्खलन हो सकता है और यात्रा योजनाओं में अस्थायी व्यवधान हो सकता है, खासकर पहाड़ी इलाकों में। यहां आने वाले किसी भी यात्री को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी बाहरी गतिविधियों पर जाने से पहले मौसम के पूर्वानुमान और सड़क की स्थिति से अपडेट रहें।

बाहरी गतिविधियाँ: जबकि मानसून का मौसम उत्तराखंड में वर्षा लाता है, फिर भी जुलाई के दौरान कई गतिविधियाँ हैं जिनका आप आनंद ले सकते हैं। ट्रैकिंग के शौकीन लोग फूलों की घाटी और हर की दून जैसे मार्गों का भ्रमण कर सकते हैं और बारिश से धुले हुए क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता को देख सकते हैं। हालाँकि, सतर्क रहना और मानसून के मौसम के दौरान विशिष्ट ट्रैकिंग मार्गों की सुरक्षा और पहुंच के संबंध में स्थानीय अधिकारियों या टूर ऑपरेटरों से जांच करना महत्वपूर्ण है। इस समय के दौरान वन्यजीवों को देखना और पक्षियों को देखना भी फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि जंगल हरी-भरी वनस्पतियों और जीवंत पक्षी प्रजातियों के साथ जीवंत हो उठते हैं।

उत्तराखंड अपने सुंदर ट्रैकिंग मार्गों के लिए प्रसिद्ध है, और यह समय इस क्षेत्र के हरे-भरे परिदृश्य और झरने के झरने का पता लगाने का एक अनूठा अवसर है। फूलों की घाटी ट्रेक, हर की दून ट्रेक, रूपकुंड ट्रेक और पिंडारी ग्लेशियर ट्रेक इस दौरान लोकप्रिय विकल्प हैं। ट्रैकिंग करते समय, बारिश की बौछारों के लिए तैयार रहना और ट्रेल की स्थिति और सुरक्षा के लिए स्थानीय गाइड या टूर ऑपरेटर से जांच करना महत्वपूर्ण है। सफ़ारी: उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य जैव विविधता से भरपूर हैं, और जुलाई उनके प्राकृतिक आवास में वनस्पतियों और जीवों को देखने का मौका प्रदान करता है।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क, राजाजी नेशनल पार्क और नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व जैसे तीन पार्क जानवरों और पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों का घर हैं, लोग यात्रा के लिए इन स्थलों पर जा सकते हैं। वन्यजीव सफ़ारी बाघ, हाथी, हिरण और असंख्य पक्षी प्रजातियों को देखने का अवसर प्रदान करती है। मौसम की स्थिति के कारण किसी भी प्रतिबंध या बंद होने के बारे में पार्क अधिकारियों से जांच करने की सलाह दी जाती है।

राफ्टिंग और वॉटर स्पोर्ट्स: उत्तराखंड व्हाइट-वॉटर राफ्टिंग के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है, और जुलाई साहसिक उत्साही लोगों के लिए रोमांचक और रोमांचकारी अवसर प्रस्तुत करता है। मानसून के मौसम के दौरान नदियाँ पूरे उफान पर होती हैं, जो रोमांचकारी तेज़ गति और एड्रेनालाईन-पंपिंग अनुभव प्रदान करती हैं। “भारत की राफ्टिंग राजधानी” के रूप में प्रसिद्ध, ऋषिकेश राफ्टिंग और कयाकिंग और रिवरबोर्डिंग जैसे अन्य जल खेलों का केंद्र है।

मंदिर दर्शन और आध्यात्मिक विश्राम: उत्तराखंड अपने पवित्र मंदिरों और आध्यात्मिक विरासत के लिए जाना जाता है। जुलाई अपने आप को भक्तिमय माहौल में डूबने और इस महीने के दौरान मनाए जाने वाले धार्मिक त्योहारों को देखने का मौका प्रदान करता है। बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री जैसे स्थान तीर्थयात्रा के लिए लोकप्रिय स्थान हैं। अनुष्ठानों में भाग लेना, आरती (प्रार्थना समारोह) में भाग लेना, और पूज्य देवताओं से आशीर्वाद मांगना एक आत्मिक अनुभव हो सकता है।

फोटोग्राफी और प्रकृति की सैर: उत्तराखंड में जुलाई आश्चर्यजनक प्राकृतिक परिदृश्य प्रस्तुत करता है जो फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए बिल्कुल उपयुक्त हैं। बारिश से धुली घाटियाँ, खिले हुए फूल और धुंध भरे पहाड़ कैद करने लायक मनोरम दृश्य बनाते हैं। प्रकृति की सैर और इत्मीनान से टहलने से आप आसपास की शांति की सराहना कर सकते हैं और उत्तराखंड की वनस्पतियों और जीवों की सुंदरता को करीब से देख सकते हैं।

जुलाई के दौरान उत्तराखंड में गतिविधियों की योजना बनाते समय, मौसम के पूर्वानुमान, सड़क की स्थिति और किसी भी सुरक्षा सलाह के साथ अद्यतन रहना महत्वपूर्ण है। भारी वर्षा या भूस्खलन के कारण कुछ स्थानों या गतिविधियों पर प्रतिबंध या अस्थायी बंदी हो सकती है। यहां आने से पहले आपको जगहों के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।

Leave a comment