1000 साल से अभी तक लोगो की प्यास बुझा रहा है ये नौला, जान्हवी नौला है उत्तराखंड की विरासत

bikram

जाहन्वी नौला पिथोरागढ़ के गंगोलीहाट का एक प्राचीन स्थान है, या तो यह प्रकृति की देन है या कुछ और, 13वीं शताब्दी में कत्यूरी शासकों द्वारा बनवाया गया पिथौरागढ के गंगोलीहाट का जाह्न्वी नौला की अविरल धारा आज भी वैसी ही है जैसी प्राचीन काल में थी। सदाबहार जाहन्वी नौला का ताज़ा पानी आज भी लोगों की पहली पसंद है। इस नौले का जल गंगा नदी के जल के समान माना जाता है।

Jhanvi naula

पानी जे साथ-साथ कर रहा है पर्यावरण जागरूकता

यह नौला उत्तराखंड की प्राचीन विरासत के साथ-साथ पूर्वजों की पर्यावरण जागरूकता को भी दर्शाता है। हर नौले में किसी न किसी प्रजाति का पेड़, भगवान की मूर्ति होती है। भारत की गर्म घाटियों जैसे गुजरात, पंजाब, राजस्थान में पीपल, बरगद आदि के पेड़ पाए जाते हैं, जबकि उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बांज, देवदार, केला, आम आदि के पेड़ देखने को मिलते हैं। यह पेड़ वहां रहने वाले लोगों की आस्था से भी जुड़ा हुआ है।

उत्तराखंड में आज भी कई पहाड़ी गांवों में पानी का एकमात्र स्रोत नौला ही है। नौला पीने के पानी की उपलब्धता के लिए पत्थरों से बनी एक ऐसी संरचना है, जो नीचे की ओर एक वर्ग फुट वर्गाकार सीढ़ीनुमा पत्थरों की कतार से शुरू होती है, जिसे स्थानीय भाषा में ‘पाटा’ कहा जाता है। बोर्ड लगे हैं, सबसे ऊपर का बोर्ड लगभग डेढ़ मीटर चौड़ा और लंबा है और कहीं-कहीं बड़ा भी है, नौले के बाहरी हिस्से में तीन तरफ दीवारें हैं। कुछ स्थानों पर दोनों ओर दीवारें हैं।

Jhanvi naula

अपने आप में अनोखा है जान्हवी नौला

अधिकांश नौलों की छतें विभिन्न प्रकार के पत्थरों से ढकी हुई हैं जिन्हें ‘पाताल’ कहा जाता है। उत्तराखंड के गांवों में छत बनाने के लिए भी पत्तल का उपयोग किया जाता है। उत्तराखंड (उत्तराखंड) में नौले की भीतरी दीवारों पर किसी न किसी देवी-देवता की मूर्ति विराजमान है, जो लोगों की आस्था और विश्वास से जुड़ी है, आज भी कई गांवों में इनकी पूजा की जाती है। अधिकतर नहरों में आंगन प्राय: बड़े-बड़े पत्थर बिछाकर बनाये जाते हैं।

हाट कालिका सिद्धपीठ जो गंगावली क्षेत्र के गंगोलीहाट में स्थित है, रामगंगा और सरयू नदी की भूमि के बीच है। इस मंदिर से पांच सौ मीटर की दूरी पर एक नहर है जिसे सदियों से गुप्त गंगा द्वारा सींचा जाता रहा है। पिथौरागढ़ के गंगोलीहाट में स्थित प्राचीन एवं ऐतिहासिक जाहन्वी नौला भी जल संरक्षण का उदाहरण है।

Jhanvi naula

जाहन्वी नौला दो मंदिर समूहों के बीच स्थित है, इस नौले का स्रोत गुप्त गंगा माना जाता है जो गंगोलीहाट के दक्षिण-पश्चिम में स्थित शैलेश्वर पर्वत की गुफा से निकलती है। इसके निर्माण को लेकर आज भी इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं। नौला में लगे शिलालेख के अनुसार इसका निर्माण 1275 में हुआ था। तब यहां चंद वंशीय मनकोटी राजाओं का शासन हुआ करता था।

यह भी माना जाता है कि नौले के निर्माण से पहले यहां शैलेश्वर पर्वत की गुप्त गंगा से आने वाले पानी का एक कुंड हुआ करता था, जिसे बाद में नौले का रूप दिया गया। जाहन्वी नौला के एक तरफ जंगम बाबा अखाड़े का मंदिर समूह है। जिसमें सबसे बड़ा मंदिर 15 फीट ऊंचा है और इसमें भगवान विष्णु की चतुर्भुज स्थिति में मूर्ति स्थापित है।

Jhanvi naula

इस मंदिर का मुख पूर्व दिशा की ओर है। दूसरी ओर पाँच मंदिरों का एक समूह है जिनका मुख दक्षिण की ओर है। पांच मंदिरों में से चार में, चतुर्भुज भगवान विष्णु हथियारों के साथ मौजूद हैं, जबकि पांचवें में हनुमान मौजूद हैं।

ऐतिहासिक स्थल में किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ न हो, नौले को कोई नुकसान न पहुंचे, इस दृष्टि से इसे लोहे की जाली से बंद कर दिया गया।जाहन्वी नौला न केवल एक जलस्रोत है बल्कि पूरे उत्तराखंड कुमाऊं की आस्था का केंद्र भी है। जो सीघे हाट कालिका से जुड़ा है। जाहन्वी नौला में निरंतर बहती जलधारा के पीछे संरक्षण की सोच है।

Leave a comment