जल्द ही सुरंग के मध्यम से जुड़ेंगे बद्रीनाथ और केदारनाथ हाईवे, 156 करोड़ की योजना से होगा काफी लाभ

bikram

उत्तराखंड के लिए चारधाम यात्रा के महत्व को कोई नकार नहीं सकता। छह महीने की यात्रा सिर्फ यात्रा के लिए नहीं है, यह पहाड़ों में अधिकांश लोगों के लिए भोजन का स्रोत भी है। बहुत से लोग इस यात्रा के माध्यम से अपनी आजीविका कमाते हैं। चूंकि हर साल सैकड़ों तीर्थयात्री चार धाम यात्रा पर आते हैं, जिससे राज्य को काफी राजस्व मिलता है। ऐसे में सरकार लोगों को अधिक से अधिक सुविधाएं देने की योजना बना रही है ताकि उनकी यात्रा को और अधिक आसान और सुरक्षित बनाया जा सके, यात्रियों की यात्रा को और अधिक सुविधाजनक बनाने का प्रयास किया जा रहा है। अब इस मामले में रुद्रप्रयाग में बद्रीनाथ और केदारनाथ हाईवे को जोड़ने वाली नौ सौ मीटर लंबी सुरंग का नाम भी जुड़ गया है।

Badrinath and kedarnath highway will be joined by tunnel

इस साल नवंबर तक बनेगी सुरंग

इस सड़क पर काम किया जा रहा है और सुरंग का काम पूरा होने में 6 महीने से 1 साल तक का समय लग सकता है. अब तक 500 मीटर तक इसका काम भी पूरा हो चुका है. आपको बता दें कि बद्रीनाथ और केदारनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग को जोड़ने के लिए बनाई जा रही सुरंग का काम तेजी से चल रहा है. महज सात महीने में 500 मीटर से ज्यादा सुरंग का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। उम्मीद है कि सुरंग का निर्माण कार्य नवंबर तक पूरा हो जाएगा।

सुरंग के साथ-साथ अलकनंदा नदी पर 200 मीटर लंबे मोटर पुल का निर्माण कार्य किया जाएगा। सुरंग और पुल बनने के बाद बद्रीनाथ और केदारनाथ हाईवे सीधे जुड़ जाएंगे। रुद्रप्रयाग में केदारनाथ और बद्रीनाथ हाईवे को सीधे जोड़ने के लिए करीब 156 करोड़ की लागत से अलकनंदा नदी पर 900 मीटर लंबी सुरंग और 200 मीटर लंबे पुल का निर्माण किया जा रहा है।

Badrinath and kedarnath highway will be joined by tunnel

सुरंग बनने के बाद इससे कई फायदे होंगे। पहला और बड़ा फायदा यह है कि लोगों को किसी भी तरह के जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा। एएमडी ऊपर से कई किलोमीटर का अतिरिक्त सफर बच जाएगा। टनल और पुल का निर्माण कार्य कर रही भारत कंस्ट्रक्शन कंपनी के एजीएम अश्विनी कुमार ने बताया कि टनल (बद्रीनाथ केदारनाथ हाईवे टनल) का निर्माण कार्य आधे से ज्यादा पूरा हो चुका है। सुरंग का काम नवंबर तक पूरा होने की उम्मीद है।

राज्य सरकार ने एक सुरंग बनाने की जिम्मेदारी ली है जो इन स्थलों को जोड़ेगी। पर्यटन और संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि सुरंग से भक्तों का समय बचेगा और तीर्थयात्रियों की सुरक्षा मजबूत होगी। उन्होंने आगे कहा कि यह सुरंग दोनों धामों के बीच के रास्ते को घुमावदार पहाड़ी रास्ते की तुलना में आसान बना देगी।

Badrinath and kedarnath highway will be joined by tunnel

पहले सड़क जोड़ने का अनुमान ढाई साल था। योजना को दो चरणों में विभाजित किया गया है – पहला है जवाड़ी बाईपास और मंदाकिनी नदी पर पुल का निर्माण। दूसरा चरण, जो सुरंग का निर्माण है, अभी शुरू होना बाकी है। पूरे प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 1.56 बिलियन है, जो भारत सरकार द्वारा अनुमोदित है।

Leave a comment