सबसे दुर्गम अभियानो में से एक है पखवा टॉप की चढ़ाई, पर इसके बाद दिखती है जन्नत

bikram

पखवा टॉप/पखवा बुग्याल को न केवल उत्तराखंड में बल्कि भारत में भी खूबसूरत ट्रेक में से एक माना जाता है। यह खूबसूरत जगह कुमाऊं मंडल के हिमालय में बागेश्वर में स्थित है। पखवा टॉप की शानदार यात्रा बागेश्वर जिले के पटियारसर गांव से शुरू होती है।पखवा टॉप हिमालय की एक ऐसी जगह, जहां पहुंचते ही आपका स्वागत बर्फीली हवाएं करती हैं। पहाड़ी की चोटी पर बिखरे छोटे-छोटे घर मोतियों की तरह दिखते हैं। यहां घास का मैदान भी है और अगर आसमान खुला है तो आपको आसमान और धरती के बीच ‘खेल’ का अहसास होगा। हिमालय की लंबी श्रृंखलाओं पर बर्फ की शृंखलाएं ऐसी लगती हैं मानो कोई सफेद कंबल ओढ़कर आराम कर रहा हो। बर्फीली चट्टानें खिलती हैं और पखवा टॉप में प्रकृति की वह आभा शांति देती है।

कुमाऊं के सबसे बड़े बुग्याल से होते हैं हिमालय के भव्य दर्शन

बागेश्वर का पखवा टॉप उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में हिमालय के सबसे बड़े अल्पाइन घास के मैदानों के लिए एक सुंदर ट्रेक है। यह ट्रेक उच्च हिमालय पर्वतमालाओं जैसे: नंदा देवी, नंदा कोट, पंचाचूली चोटियों आदि का अद्भुत मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है।पखवा टॉप की यात्रा कई एकांत स्थानों, जंगली फूलों वाले पौधों, बुग्यालों, झरनों और जंगलों से भरी हरी-भरी घाटियों और विभिन्न परिदृश्यों से होकर गुजरती है, जिसमें हर खोजकर्ता और पथिक के लिए बहुत कुछ है। अद्भुत और रोमांचकारी ट्रेक अधिक आकर्षित करता है। जो लोग एकांत जीवन जीने की इच्छा रखते हैं उनका यहां स्वागत किया जाता है।

बागेश्वर में यह स्थान उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के बागेश्वर जिले के कपकोट तहसील के खलझूनी गांव में मौजूद है। यहां आप बंगाली बाबा की कुटिया में आराम कर सकते हैं, जब आप थककर आएंगे तो यह आपको कुछ पल का आराम देगी। यहां से हिमालय का विहंगम दृश्य देखा जा सकता है। यहां से पिंडर घाटी के द्वाली, फुरकीवा आदि सुंदर अद्भुत दृश्य भी दिखाई देते हैं। इसके ठीक पीछे सरयू घाटी है।

यहां दिखेंगे भारत के सबसे एकांत गांव

बागेश्वर जिले के लाहुर, मिकिला, खलपट्टा, ग्यासी, सूपी, तलाई आदि में कई एकांत गांव हैं। अगर आप लंबी छुट्टियों पर हैं तो यहां जा सकते हैं और कुमाऊं मंडल, उत्तराखंड जैसे गांवों के जीवन और संस्कृति से परिचित होने का मौका पा सकते हैं। यहां के बाखली गांव और पहाड़ों के बीच बने घर अद्भुत दृश्य लगते हैं।

इस जगह की खास बात यह है कि यहां रोशनी का प्रदूषण बहुत कम है। यहां चोटियों और आकाश में तारों का शानदार नजारा देखने को मिलता है। शहरों की चकाचौंध से दूर बागेश्वर जिले के इन खूबसूरत गांवों का जीवन अभावों के बावजूद जीवंत और समृद्ध है, यह आंखों को दिख जाएगा। इन घरों तक जाने वाले रास्ते बेहद संकरे हैं और चट्टानों से होकर गुजरते हैं। इसके अलावा शामा की पहाड़ी, जिसे स्थानीय लोग शिखर कहते हैं, भी यहां से स्पष्ट दिखाई देती है। यहां पहुंचने पर उन्हें जो आनंद मिलेगा उसका वर्णन करने के लिए शायद ही किसी साहसी पर्यटक को शब्द मिलें।

बागेश्वर जिले के खूबसूरत पाखवा टॉप से ​​ग्लेशियरों की ओर बढ़ने पर जड़ी-बूटियों का अकूत भंडार नजर आता है। कुटकी, अतीस, चिरायता, डोलो, छीपी के अलावा यह स्थान मोनाल, कस्तूरी मृग, भरण, हिरण, भालू आदि वन्य जीवन से भी समृद्ध है। यदि आप भाग्यशाली हैं तो आप इसे अक्सर देख सकते हैं। पखवा टॉप क्षेत्र तक की यात्रा पूरी करने के बाद हर जगह प्रकृति की असीम सुंदरता देखने को मिलती है।

पखवा टॉप से ​​एक रास्ता सरयू नदी के उद्गम स्थल सरमूल घाटी की ओर जाता है। यह खूबसूरत जगह यहां से करीब चार किमी दूर है। यह रास्ता बहुत संकरा है और चट्टानों से होकर गुजरता है। पर्वतारोही अक्सर इस मार्ग का उपयोग करते हैं। पखुवा टॉप से ​​देवी कुंड की दूरी लगभग तीन किमी है और यहां पहुंचने के लिए खड़ी चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। यहां से उतरते हुए दाई और कफनी की ओर जाने वाला रास्ता है।

कैसे पहुचे पखवा टॉप

3800 मीटर की ऊंचाई पर स्थित कफनी ग्लेशियर तक पहुंचने के लिए सिर्फ छह किमी की दूरी तय करनी पड़ती है। कफनी ग्लेशियर तक नंदा भार पर्वतमाला की तलहटी से पहुंचा जा सकता है। वहीं, फुरकिया से पिंडरी घाटी की ओर जाने वाली सड़क भी यहीं से होकर गुजरती है।

खूबसूरत और अद्भुत नज़ारों वाले “पखवा टॉप” की साहसिक यात्रा के लिए आपका हार्दिक स्वागत है। इसके लिए आपको सबसे पहले बागेश्वर पहुंचना होगा। जिला मुख्यालय से इस चोटी तक पहुंचने के लिए टैक्सी से 37 किमी दूर सौंग जाना पड़ता है। फिर पांच किलोमीटर की दूरी पर मुनार और आठ किलोमीटर की दूरी पर पटियारसर है। पतियारसर से झूनी तक करीब दो किमी और खलझूनी तक करीब चार किमी का सफर तय करना पड़ता है। पखवा टॉप खलझूनी से साढ़े तीन किमी की खड़ी चढ़ाई है। इस चोटी की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग तीन हजार मीटर है।

Leave a comment