सती के शरीर के अंग से हुआ था इस मंदिर का सृजन, क्या है सुरकुंडा मंदिर का 51 सिद्धपीठो में महत्व

bikram

उत्तराखंड का माँ सुरकंडा देवी मंदिर भारत का एक प्राचीन सिद्धपीठ है। सुरकुंडा मंदिर, देवी दुर्गा को समर्पित है और इसका संबंध भगवान शिव की पत्नी माता सती (पार्वती) से है, जो देवी के नौ रूपों में से एक हैं। माँ सुरकंडा देवी मंदिर भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां सुरकंडा देवी मंदिर में मां काली की मूर्ति स्थापित है। यह सिद्धपीठ मंदिर टिहरी जिले के कद्दूखाल की सकलाना श्रृंखला में स्थित है, अब यह एक खूबसूरत पर्यटक स्थल है।

ऊँची पहाड़ी पर मंदिर की ख़ूबसूरती देख कर आप भी खो जायेंगे

मां सुरकंडा देवी मंदिर धनोल्टी से लगभग 6.5 किलोमीटर और चंबा से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। सुरकंडा देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए लोगों को कद्दूखाल गांव से 3 किमी की पैदल दूरी तय करनी पड़ती है। यह मंदिर समुद्र से करीब 2,757 मीटर ऊंचा है।

सिद्धपीठ मां सुरकंडा देवी मंदिर घने जंगल से घिरा हुआ है और यहां से आप उत्तर में हिमालय का सुंदर दृश्य देख सकते हैं और साफ मौसम के दौरान यहां से दक्षिण में देहरादून और ऋषिकेश का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। उच्च हिमालय के छोटे किनारे पर होने के कारण यह मंदिर वर्ष के अधिकांश समय कोहरे से ढका रहता है। मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया है। वास्तविक मंदिर की स्थापना का समय ज्ञात नहीं है। ऐसा माना जाता है कि यह बहुत प्राचीन मंदिर है।

मसूरी से डेढ़ किलोमीटर ऊपर कद्दूखाल की ओर जाने वाले मोटर मार्ग पर लगभग 300 फीट की ऊंचाई पर सुरकुट पर्वत पर मां सुरकंडा का मंदिर है। कद्दूखाल से मंदिर तक पैदल जाना पड़ता है। सिद्धपीठ मां सुरकंडा देवी मंदिर के पौराणिक उल्लेख के अनुसार, जब राजा दक्ष ने हरिद्वार के कनखल में यज्ञ का आयोजन किया, तो सभी देवताओं को आमंत्रित किया, लेकिन उन्होंने भगवान शिव को आमंत्रित नहीं किया और न ही अपनी बेटी सती को।

सती ने रोहिणी को चंद्रमा के साथ जाते देखा और जब उससे पता चला कि वे दोनों उनके ही पिता दक्ष के महान यज्ञ में भाग लेने जा रहे हैं तो सती का मन भी वहां जाने के लिए व्याकुल हो गया।भगवान शिव के समझाने के बावजूद सती की चिंता बनी रही और भगवान शिव ने उन्हें अपने गणों के साथ वहां जाने की अनुमति दे दी। भगवान शिव के मना करने के बाद भी भगवान शिव की पत्नी और राजा दक्ष की पुत्री यज्ञ में गयीं। वहां उनका अपमान हुआ तो वे यज्ञ कुंड में कूद गईं।

क्या है इस पौराणिक मंदिर की कहानी

इस समाचार से अत्यंत क्रोधित होकर भगवान शिव ने अपनी जटाओं से वीरभद्र को उत्पन्न किया और वीरभद्र ने गणों सहित दक्ष यज्ञ का विध्वंस कर दिया। यज्ञ विध्वंस के बाद सती स्वयं को छाया सती के रूप में व्यवस्थित कर अंतर्ध्यान हो जाती हैं। अतीत में देवी शक्ति द्वारा भविष्यवाणी किए जाने के बावजूद, एक सांसारिक व्यक्ति की तरह, भगवान शिव सती के लिए विलाप करते हैं और एक विक्षिप्त व्यक्ति की तरह सती के मृत शरीर को अपने सिर पर लेकर घूमते हैं।

वह सती को अपने साथ हिमालय पर ले जाते थे। यह सब देखकर देवताओं को राहत पहुंचाने और स्थिति को संभालने के लिए भगवान विष्णु अपने सुदर्शन चक्र से सती के मृत शरीर को टुकड़े-टुकड़े कर देते हैं। इस प्रकार सती के विभिन्न अंगों एवं आभूषणों के अलग-अलग स्थानों पर गिरने से वे स्थान शक्तिपीठ के रूप में प्रतिष्ठित हो गये।

सती के कौन से अंग से हुआ मंदिर का सृजन

इस प्रकार देशभर में 51 शक्तिपीठों का निर्माण हुआ। सती का सिर शरीर के विभिन्न भागों से अलग होकर सुरकुट पर्वत पर गिरा, तभी से इस स्थान का नाम सुरकंडा पड़ा, जो बाद में सिद्धपीठ/शक्तिपीठ सुरकंडा के नाम से प्रसिद्ध हुआ।जब सती का शव वहां नहीं रहा तो भगवान शिव ने उत्सुकतापूर्वक देवताओं से प्रश्न किया तो देवताओं ने उन्हें सारी बात बता दी। इस पर भगवान शिव ने साँस छोड़ते हुए भगवान विष्णु को उसी प्रकार त्रेता युग में सूर्यवंश में अवतार लेकर अपनी पत्नी से वियोग करने का श्राप दिया।

उन्होंने स्वयं 51 शक्तिपीठों में से सबसे महत्वपूर्ण ‘कामरूप’ में जाकर भगवती की आराधना की और यहीं उन्हें प्रकृति से हिमालय के घर में पार्वती के रूप में पुनः उनकी पत्नी बनने का वरदान मिला। इस प्रकार यही सती अगले जन्म में पार्वती के रूप में हिमालय की पुत्री बनीं और पुनः भगवान शिव को पत्नी के रूप में प्राप्त किया।

कैसे पहुंचे सुरकुंडा देवी मंदिर?

सिद्धपीठ मां सुरकंडा देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए यहां देहरादून, मसूरी और ऋषिकेश से वाहनों को अनुमति है। आपको कद्दूखाल पहुंचना होगा और फिर करीब डेढ़ किमी की खड़ी चढ़ाई चढ़कर मंदिर तक पहुंचना होगा। जिन लोगों को कद्दूखाल से मंदिर तक चढ़ने में कठिनाई होती है उनके लिए घोड़े भी उपलब्ध हैं और अब सरकार द्वारा यहां एक रोपवे भी बनाया जा रहा है।

  • दिल्ली से सुरकुंडा देवी मंदिर की दूरी: 320 K.M.
  • देहरादून से सुरकुंडा देवी मंदिर की दूरी: 60 K.M.
  • ऋषिकेश से सुरकुंडा देवी मंदिर की दूरी: 90 K.M.
  • हरिद्वार से सुरकुंडा देवी मंदिर की दूरी: 110K.M.

बाहर से आने वाले यात्री और पर्यटक ऋषिकेश से चंबा तक लगभग 64 किमी और चंबा से कद्दूखाल तक लगभग 20 किमी तक वाहन से आ सकते हैं। यहां दिन के हर समय वाहन उपलब्ध रहते हैं। इसके अलावा देहरादून से मसूरी होते हुए लगभग 60 किमी (लगभग 35 किमी) की दूरी तय करके कद्दूखाल पहुंचा जा सकता है।

Leave a comment