उत्तराखंड की ऐतिहासिक धरोहर में से एक है कोटद्वार, यही हुआ था शकुंतला और भारत का जन्म

bikram

कोटद्वार को प्राचीन काल में ‘कण्वाश्रम’ भी कहा जाता था, जो गढ़वाल के भाबर क्षेत्र की प्रमुख ऐतिहासिक धरोहरों में सबसे प्रमुख है, इसका पुराणों में भी विस्तार से उल्लेख मिलता है। हजारों वर्ष पूर्व जिस मालिनी नदी का उल्लेख पौराणिक काल में मिलता है, वह आज भी उसी नाम से पुकारी जाती है और कोटद्वार के भाबर के एक बड़े क्षेत्र को सिंचित कर रही है।

प्राचीन भारत का प्रसिद्ध विद्यापीठ था कण्वाश्रम

कण्वाश्रम वह स्थान माना जाता है जहां विश्वामित्र और कण्व जैसे ऋषियों ने लंबे समय तक तपस्या की थी। एक पौराणिक कथा के अनुसार, जब विश्वामित्र यहां तपस्या में लीन थे, तो यह देखकर भगवान इंद्र को असुरक्षित महसूस हुआ। उनका ध्यान भटकाने के लिए इंद्र ने स्वर्ग से एक आकर्षक अप्सरा मेनका को भेजा। बाद में दोनों की एक बेटी शकुंतला का जन्म हुआ। शकुंतला को भरत की माता कहा जाता है जिनके नाम पर हमारे देश का नाम “भारत” पड़ा। भरत को समर्पित एक छोटा सा मंदिर भी यहीं स्थित है।

कण्वाश्रम में कई आश्रम बने हुए हैं जहां लोग आकर शिक्षा ग्रहण करते थे। ये विद्यालय शिवालिक की तलहटी में मालिनी के दोनों किनारों पर स्थित छोटे आश्रमों के रूप में हैं। यहाँ केवल उच्च शिक्षा प्राप्त करने की सुविधा थी। इसमें वे विद्यार्थी प्रवेश कर सकते थे, जो सामान्य विद्यालय का पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद और अधिक अध्ययन करना चाहते थे। कण्वाश्रम चारों वेदों, व्याकरण, छंद, निरुक्त, ज्योतिष, आयुर्वेद, शिक्षा एवं कर्मकाण्ड के अध्ययन-अध्यापन का प्रबंध करता था।

कालिदास और महाभारत में भी है कोटद्वार का जिक्र

‘स्कंद पुराण’ के 57वें अध्याय में केदारखंड का जिक्र है, जिसे गढ़वाल क्षेत्र कहा गया है। इस पवित्र क्षेत्र का उल्लेख इस प्रकार किया गया है, ‘कण्वाश्रम’ ऋषि कण्व का वही आश्रम है, यहां कभी वेदों की पवित्र ऋचाओं का सामूहिक पाठ होता था और शकुंतला ऋषि विश्वामित्र और अप्सरा मेनका की पुत्री थीं।

महाभारत के अनुसार एक बार दुष्यन्त गंगा नदी पार करके शिकार के लिये गये। जब वे मालिनी तट पर स्थित कण्व ऋषि के आश्रम पहुंचे। वहां उन्हें तत्कालीन विश्वामित्र और मेनका अप्सरा की पुत्री शकुंतला मिली, जिसे उसकी मां ने पैदा होते ही जंगल में छोड़ दिया था। कण्व ने इसे अपने आश्रम में पाला। मिलने पर शकुन्तला ने अपनी जन्म कथा दुष्यन्त को सुनाई।

क्या है शकुंतला और भरत की कोटद्वार की कहानी

दुष्यन्त उसके साथ शादी का प्रस्ताव रखा, लेकिन उसने अपने पिता की अनुमति के बिना उससे शादी करने से इनकार कर दिया। इस पर दुष्यन्त ने शकुन्तला को विवाह के आठ भेद बताये, जिनमें पिता की सहमति के बिना भी गंधर्व विवाह हो सकता है। इस पर वह इस शर्त पर गंधर्व विवाह के लिए राजी हो गई कि उसका पुत्र हस्तिनापुर का राजा बनेगा। दुष्यन्त ने शकुन्तला की यह शर्त स्वीकार कर ली और दोनों ने गन्धर्व विवाह कर लिया।

विवाह के तुरंत बाद अपनी राजधानी बुलाने का आश्वासन देकर दुष्यन्त अपनी राजधानी लौट आये। आश्रम आने पर कण्व को पूरी घटना का पता चला और उन्होंने शकुंतला को आशीर्वाद दिया। कुछ समय बाद शंकुतला के घर एक तेजस्वी बालक का जन्म हुआ। जिसका नाम सर्वदमन या भरत रखा गया। इतने दिन बाद भी दुष्यन्त का कोई फोन नहीं आया। फलस्वरूप कण्व ने भरत के जाति संस्कार आदि के बाद शकुन्तला को पातिव्रत्य धर्म का उपदेश दिया और शिष्यों सहित उसे राजधानी हस्तिनापुर भेज दिया।

शकुंतला ने दुष्यन्त की राज्यसभा में पहुंचकर दुष्यन्त को सभी शर्तें याद दिलाईं और भरत को युवराज पद देने का आग्रह किया, लेकिन दुष्यन्त ने उसके प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया और कटु शब्दों में इसकी आलोचना की। ऐसा कहा जाता है कि एक संत के श्राप के कारण, जो शकुंतला से मिलने आये थे, दुष्यन्त शकुन्तला से किये गये अपने सारे वादे भूल गया था। दुष्यन्त के कठोर वचन सुनकर शकुन्तला बहुत लज्जित हुई। शकुन्तला ने पत्नी और पुत्र के प्रति पति के कर्तव्य को दोहराया और उनके पालन का आग्रह और प्रार्थना की

लेकिन एक आकाशवाणी ने सच बता दिया टी.आईके दुष्यन्त और उन्होंने उसे स्वीकार कर लिया। बाद में यही राजा भरत राजा बने और जिनके नाम पर भरत वाउंटी का नाम पड़ा।एक अन्य कहानी में अभिज्ञानशाकुंतलम में कालिदास द्वारा ऋषि द्वारा शापित होना। श्राप सच निकला और दुष्यन्त सब कुछ भूल गया। मछली के पेट से अंगूठी प्राप्त करना। परन्तु स्मृति की वापसी आदि का प्राचीन साहित्य में कोई उल्लेख नहीं है। यह केवल कवि की कल्पना हो सकती है।

1956 से हर वर्ष ‘बसंत पंचमी’ के अवसर पर कण्वाश्रम में मालिनी नदी के बाएं तट पर चौकीघाट नामक स्थान पर तीन दिवसीय मेले का आयोजन किया जाता है। महाकवि कालिदास द्वारा रचित ‘अभिज्ञान शाकुंतलम’ में जिस प्रकार कण्वाश्रम का उल्लेख किया गया है, उन स्थानों को आज भी उसी प्रकार देखा जा सकता है। कण्वाश्रम का निकटतम शहर कोटद्वार है जो जिला-पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड में है। उत्तराखंड को देवभूमि या देवभूमि भी कहा जाता है। देश की राजधानी दिल्ली के उत्तर-उत्तर-पश्चिम दिशा में स्थित कोटद्वार शहर सड़क, रेल और हवाई सेवा द्वारा देश से जुड़ा हुआ है।

कैसे पहुंचे कोटद्वार

जॉली ग्रांट हवाई अड्डा कोटद्वार क्षेत्र का निकटतम हवाई अड्डा है जो 104.3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डा दैनिक उड़ानों द्वारा दिल्ली से जुड़ा हुआ है। यह हवाई अड्डा देहरादून से लगभग 40 किमी दूर है। यहां से स्थानीय टैक्सियां, बसें आदि उपलब्ध हैं।

कण्वाश्रम ( Kanvashram ) के निकटतम रेलवे स्टेशन कोटद्वार और नजीबाबाद हैं। कोटद्वार (kotdwar) रेलवे स्टेशन कण्वाश्रम से 14 किलोमीटर और नजीबाबाद रेलवे स्टेशन कण्वाश्रम से 38 किलोमीटर पर स्थित है। यहाँ से टैक्सी और बसें कण्वाश्रम के लिए उपलब्ध रहती हैं।सड़क से : कण्वाश्रम कोटद्वार (Kotdwar) सीधे सड़कों से पौड़ी, हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून, नजीबाबाद, दिल्ली आदि अन्य शहरों जुड़ा है।

दिल्ली से कोटद्वार की दूरी: 220 कि0मी0 है।

दिल्ली से हरिद्वार की दूरी: 72 कि0मी0 है।

दिल्ली से देहरादून की दूरी: 120 कि0मी0 है।

यह मार्ग- दिल्ली-मेरठ-मवाना-मीरापुर-बिजनौर-नजीबाबाद-कोटदवार है। कोटद्वार से 14 कि.मी. की दूरी पर स्थित है तथा बस, टैक्सी तथा अन्य स्थानीय यातायात की सुविधायें यहाँ उपलब्ध रहती।

कण्वाश्रम कोटद्वार पौडी, हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून, नजीबाबाद, दिल्ली आदि जैसे अन्य शहरों से सीधी सड़कों द्वारा जुड़ा हुआ है।

Leave a comment