उत्तराखंड में पौडी के ज्वाल्पा देवी मंदिर में सालो से जल रही है अखंड ज्योत, क्या है इस मंदिर की कहानी..

bikram

नवरात्रि के दौरान लोग अक्सर देवी की पूजा करने के लिए मंदिर जाते हैं। हम आपको बताना चाहते हैं कि ऐसे कुछ मंदिर हैं जहां नवरात्रि पर भारी भीड़ जमा होती है। हम आपको बताना चाहते हैं कि ज्वाल्पा देवी मंदिर माता को समर्पित उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। और अगर मां के दर्शन के साथ प्रकृति की गोद में कुछ सुकून के पल भी मिल जाएं तो फिर कहने ही क्या…है ना??क्षेत्र के लोगों की इस मंदिर में गहरी आस्था है। ज्वालपा देवी मंदिर के दर्शन का लाभ माता के अति प्राचीन मंदिर से मिलता है, जहां सैकड़ों वर्षों से निरंतर ज्वाला जल रही है, लेकिन साथ ही मंदिर के किनारे कल-कल बहती नयार (नावलीका) नदी भी है।

क्या है ज्वाल्पा देवी मंदिर का रहस्य?

जी हां, हम बात कर रहे हैं ज्वाल्पा देवी मंदिर की, जो उत्तराखंड के पौड़ी से करीब 34 किलोमीटर दूर है। तो आइये आपको ले चलते हैं हमारी ज्वाल्पा देवी की यात्रा पर। लैंसडाउन से पुरी जाते समय आप सतपुली से गुजरेंगे और आपकी खिड़की के बाहर बहती नदी का दृश्य आपकी सारी थकान दूर कर देगा। यहीं से एक अद्भुत यात्रा शुरू हुई थी, हमारे एक तरफ बहती खूबसूरत नदी, घने बादल और हरे-भरे पहाड़।

लैंसडाउन से लगभग 20 किलोमीटर का सफर तय करने के बाद आप ज्वाल्पा देवी मंदिर पर रुकेंगे, अच्छी बात है कि मंदिर हाईवे से ज्यादा दूर नहीं है, हाईवे पर ही आपको मंदिर का मुख्य द्वार दिखाई देगा, साथ ही कुछ वस्तुओं की दुकानें भी दिखेंगी।जब आप परिसर में प्रवेश करेंगे, तो एफडब्ल्यू मीटर की यात्रा के बाद आपको नदी के पानी की आवाज़ के साथ कुछ अद्भुत दृश्य दिखाई देंगे। किसी ने सच ही कहा है कि इस धरती पर अनगिनत संगीत उपलब्ध हैं, बस उन्हें सुनना है।

इस मंदिर से होते हैं हिमालय के भव्य दर्शन

करीब 150-200 सीढ़ियां चलकर आप मंदिर के गेट पर पहुंच जाएंगे, जहां से नयार नदी का नजारा आपका मन मोह लेगा, वाकई खूबसूरत। जब आप मंदिर में प्रवेश करेंगे तो आपको वहां अखंड ज्योति और ज्वाल्पा माता की मूर्ति दिखाई देगी।मंदिर के दूसरी ओर जाने पर जहां द्वार पर शिवालय का रास्ता लिखा था। वहां हमें प्राचीन शिवालय, शनिदेव, मां काली और हनुमान जी के दर्शन होते हैं। यहां सामने बहती नदी को देखकर आपका दिल रोमांचित हो जाएगा और खुशी से झूम उठेगा।

यहां पुजारी आपको मंदिर की कहानी बताएंगे। बताया जा रहा है कि सतयुग में दैत्यराज पुलोम की पुत्री सुचि ने देवताओं के राजा देवराज इंद्र को अपने पति के रूप में पाने के लिए यहां नयार नदी के तट पर घोर तपस्या की थी, तब सुचि की तपस्या से प्रसन्न होकर मां भगवती ने उन्हें ज्वाला के रूप में दर्शन दिए थे और उनकी मनोकामनाएं पूरी होने का आशीर्वाद दिया था। क्योंकि यहां माता ने सुचि को ज्वाला रूप में दर्शन दिए थे, इसलिए इस स्थान का नाम ज्वालपा देवी पड़ा।

Story OF Jwalpa Devi Temple Pauri

क्योंकि माता पार्वती ज्वाला रूप में प्रकट हुई थीं और तभी से यहां अखंड ज्योत सदैव जलती रहती है। और इस परंपरा को जारी रखने के लिए तब से आसपास के गांवों में उगने वाली सरसों से भी तेल की व्यवस्था की जाती है।नदी के पास स्थित मंदिर का वातावरण इतना जादुई और शांतिपूर्ण है कि इसे शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है, इसे केवल अनुभव किया जा सकता है।

दिल्ली से ज्वालपा देवी मंदिर की दूरी: 350 किमी

नदी का पवित्र जल इतना स्वच्छ और शीतल है कि यह आपकी आत्मा को छू जाएगा। यह आपके पूरे शरीर में एक नई ऊर्जा पैदा करता है। यहां आपको नदी के बेहतरीन नज़ारे देखने को मिलेंगे, सामने दिख रहे पहाड़ी जंगल इस लोकेशन की खूबसूरती को कई गुना बढ़ा रहे थे। आप इस दृश्य की तस्वीरें लेने से खुद को रोक नहीं सकते हैं लेकिन इसका अनुभव करना सबसे अच्छा है कि आप अपने मन में तस्वीर लें।

देहरादून से ज्वालपा देवी मंदिर की दूरी: 150 किमी

यहां आने के लिए आप रेल या सड़क मार्ग से कोटद्वार शहर पहुंच सकते हैं और कोटद्वार से कैब या टैक्सी लेकर आप लगभग 70 किमी दूर ज्वाल्पा देवी मंदिर तक आसानी से पहुंच सकते हैं। रेलवे स्टेशन के पास देहरादून है और हवाई अड्डा जौलीग्रांट है।

Leave a comment