अब उत्तराखंड में पीछे नहीं रहेगी बेटियां, गौरा देवी कन्या धन योजना से आएंगे खाते में 50000

bikram

सर्वे के मुताबिक देश की लगभग आधी आबादी गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रही है, इनमें से कई लोगों को दो वक्त का खाना भी नहीं मिल पाता है। इसलिए वे अपने बच्चों खासकर अपनी लड़कियों को अच्छी शिक्षा नहीं दिला पाते हैं, नतीजा यह होता है कि पैसों की कमी के कारण लड़कियों को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ती है।

जानिए नंदा गौरा योजना से कौन-कौन से परिवार होंगे लाभान्वित

उत्तराखंड में भी कई गांव हैं, यहां तक ​​कि शहरों में भी लड़कियों की शिक्षा का अनुपात लड़कों की तुलना में बहुत कम है। उत्तरकाशी जैसे जिले में महिला शिक्षा बहुत कम है। लेकिन अब सरकार “गौरा देवी कन्या धन योजना” नामक एक योजना शुरू करने की योजना बना रही है।

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए, उत्तराखंड सरकार का महिला बाल विकास राज्य की बालिकाओं के परिवार को 12वीं कक्षा पास करने के बाद आगे की शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 50000/- रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करता है ताकि वे 12वीं के बाद एक सम्मानजनक करियर बना सकें।इसके अतिरिक्त बालिका के जन्म पर 11000/- रूपये की धनराशि प्रदान कर समाज में बालिका के जन्म को प्रोत्साहित किया जाता है।

लेकिन इस गौरा देवी कन्या धन योजना का लाभ पाने के लिए आपको चरण, प्रक्रिया और स्वहेमे से जुड़ी सभी जानकारी पता होनी चाहिए। हम यहां आपको इस विषय पर हर छोटी जानकारी प्रदान कर रहे हैं। उत्तराखंड सरकार ने एक छात्रवृत्ति पोर्टल शुरू किया है जहां आप आवेदन पत्र डाउनलोड कर सकते हैं और आवेदन की सभी जानकारी और स्थिति देख सकते हैं।

सबसे पहले यह योजना उन लड़कियों के लिए है जिनके परिवार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और बीपीएल परिवार के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करते हैं। वे लड़कियों को आर्थिक सहायता दिलवाएंगे

योजना का नाम गौरा देवी कन्या धन योजना
लाभार्थी गरीब परिवार की कक्षा 12वी उत्तीर्ण कर चुकी छात्रा
लाभ 5000/- रुपयोंकी आर्थिक सहायता
राज्य उत्तराखंड
शुरू की गयी पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत
शुरुआत 2017-18
आवेदन ऑनलाइन/ऑफलाइन

क्या है योजना के पीछे का उद्देश्य?

इस योजना को शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य गरीब बालिकाओं की स्थिति को ऊपर लाना है। ताकि वे अपनी आगे की पढ़ाई पूरी कर सकें और सम्मानित नौकरी पा सकें:-

  • चूँकि एक गरीब परिवार में आर्थिक रूप से गरीब परिवार की बेटी के लिए 12वीं कक्षा के बाद अपनी आगे की शिक्षा पूरी करना कठिन होता है, इसलिए गौरा देवी कन्या धन योजना का मुख्य उद्देश्य ऐसे गरीब परिवार को इस योजना के माध्यम से वित्तीय सहायता प्रदान करना है.
  • ताकि वे अपनी शिक्षा पूरी कर सकें और अपने पैरों पर खड़े होकर आत्मनिर्भर बन सकें.
  • राज्य की बालिकाओं को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहित एवं प्रोत्साहित करना। राज्य की लड़कियों के जीवन स्तर में सुधार लाना।

गौरा देवी योजना कैसे करती है मदद

  • गौरा देवी कन्या धन योजना 2017 में उत्तराखंड सरकार द्वारा शुरू की गई है।
  • यह योजना न केवल आर्थिक सहायता प्रदान करेगी बल्कि राज्य की बालिकाओं के सामाजिक एवं आर्थिक विकास तथा उनके जीवन स्तर को सुधारने में महत्वपूर्ण होगी।
  • इस योजना के तहत लड़कियों को 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद आगे की शिक्षा के लिए 50000/- रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • इस योजना के तहत 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाली सभी लड़कियां अपनी आगे की शिक्षा पूरी करने के लिए आवेदन कर सकती हैं।
  • इस योजना के तहत कुल 2655 स्कूल पंजीकृत हैं। वर्ष 2021-2022 में इस योजना का बजट 89 करोड़ रुपये तय किया गया था.

योजना के लिए पात्रता मानदंड क्या है?

हालाँकि लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए आगे बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई यह एक बड़ी पहल है। इससे जुड़ी उनकी कुछ शर्ते भी हैं:-

  • सभी लाभ आसानी से प्राप्त करने के लिए नौकरी के लिए कुछ पात्रता मानदंड हैं।
  • इस योजना का लाभ 12वीं पास करने के बाद आगे की शिक्षा के लिए दिया जाता है, इसलिए लड़की का 12वीं पास होना जरूरी है।
  • आवेदक को उत्तराखंड राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए
  • इस योजना का लाभ गरीब परिवार की लड़कियों को दिया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ पाने के लिए परिवार की वार्षिक आय निर्धारित की गई है।
  • शहरी क्षेत्र में रहने वाले परिवार की वार्षिक आय 21206/- से कम होनी चाहिए।
  • जो लोग ग्रामीण इलाकों में रह रहे हैं उनकी वार्षिक आय 15976/- रुपये से कम होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ केवल अविवाहित छात्राएं ही उठा सकती हैं।
  • उस समय 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा की उम्र 1 जुलाई को 25 वर्ष होनी चाहिए।

क्या हैं नामांकन के लिए आवश्यक दस्तावेज ?

योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपके पास सभी दस्तावेज एक साथ तैयार होने चाहिए। इसके लिए आपको जिन महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता है वे हैं:

  • लड़की का आधार कार्ड
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • लड़की का जाति प्रमाण पत्र
  • 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने की मार्कशीट
  • बैंक खाता विवरण
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • 3 पासपोर्ट साइज फोटो
  • परिवार रजिस्टर की नकल की मूल प्रति
  • चुनाव पहचान पत्र
गौरा देवी कन्या धन योजना की विशेषताएं

सरकार द्वारा किसी भी योजना के लिए नामांकन करने के लिए किसी को योजनाओं के सभी नियमों और विनियमों को जानना चाहिए और विशेष रूप से इसके क्या लाभ हैं, इस योजना के तहत आपको विभिन्न लाभ मिल सकते हैं जैसे:

  • यह योजना गरीब परिवारों की लड़कियों को 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद अपनी आगे की शिक्षा पूरी करने में मदद करेगी।
  • इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी लड़की को 50000/- रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।
  • आवेदन करने वाले परिवार को बालिका के जन्म के 6 माह के भीतर 11000/- रूपये की धनराशि प्रदान की जाती है।
  • इस योजना में उत्तराखंड राज्य में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, बीपीएल परिवारों को शामिल किया गया है।
  • इस योजना के तहत प्राप्त राशि लड़की के बैंक खाते में स्थानांतरित कर दी जाती है।
  • इस योजना की सहायता से लड़कियाँ अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद अपने पैरों पर खड़ी हो सकती हैं और शिक्षा पूरी करने के बाद आत्मनिर्भर बन सकती हैं।
  • राशि स्वीकृत होने पर लाभार्थी के नाम से कोर बैंकिंग बैंक शाखा में 3-5 वर्ष के लिए 50,000 की सावधि जमा कराई जाएगी।
कैसे करें योजना के लिए आवेदन

अब आप सभी विवरण जान गए हैं तो आपको पता होना चाहिए कि योजना के लिए आवेदन कैसे करें या नामांकन कैसे करें:

  • इसके लिए सबसे पहले आवेदक को सबसे पहले उत्तराखंड राज्य की इस योजना से संबंधित आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाते ही होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर स्टूडेंट सेक्शन में एप्लिकेशन फॉर्म पर क्लिक करें
  • जैसे ही आप आवेदन पत्र पर क्लिक करें, उसे डाउनलोड कर लें और उसका जेरॉक्स निकाल लें।
  • अब आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी जैसे स्कूल का नाम, छात्र का नाम, पिता का नाम आदि ठीक से भरना होगा।
  • अब भरे हुए आवेदन पत्र को आवश्यक दस्तावेजों के साथ अपने स्कूल के शिक्षक या अपने क्षेत्र के विकास खंड कार्यालय और समाज कल्याण अधिकारी, डीपीओ कार्यालय में जमा करें।
  • आपके आवेदन की जांच और जांच कार्यालय द्वारा की जाएगी और आपकी सभी जानकारी आधिकारिक वेबसाइट पर जोड़ दी जाएगी।
Leave a comment