पौड़ी गढ़वाल का एक और हिल स्टेशन जिसके आगे नैनीताल, मसूरी और शिमला भी पड़ जायेंगे फीके

bikram

उत्तराखंड पर प्रकृति हमेशा मेहरबान रहती है। प्राचीन काल से ही इस स्थान को “देवभूमि” कहा जाता है। वह स्थान जहां भगवान निवास करते हैं और यह सच हो सकता है क्योंकि यहां आने पर आप प्राकृतिक परिदृश्य देखेंगे और शांति मिलेगी। पौड़ी गढ़वाल पहाड़ी क्षेत्र का हिस्सा होने के कारण इस जगह पर कई हिल स्टेशन हैं। आप नैनीताल और मसूरी के बारे में तो जानते ही होंगे। एक समय था जब पर्यटक यहां की शांति और माहौल को देखने के लिए सीमित संख्या में ही आते थे।

बढ़ती भीड़ के चलते अब पौड़ी गढ़वाल के खिर्सू का होगा सौंदर्यीकरण

अब इन पर्यटन स्थलों पर बहुत भीड़ हो रही है और यहां का प्राकृतिक माहौल खराब हो रहा है। हम यहां आपको दूर-दूर तक फैले अन्य खूबसूरत पहाड़ों, प्रकृति के अनूठे रंगों की जानकारी दे रहे हैं, जो देवभूमि को सबसे अलग और अनोखी बनाती है।उत्तराखंड के ये पर्यटन स्थल आज भी गांवों की भीड़-भाड़ से दूर हैं। चूँकि इन जगहों के बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं, जिनके बारे में बहुत से लोग नहीं जानते हैं, ये बड़े-बड़े हिल स्टेशनों को भी मात दे सकते हैं और ये शहर से बहुत दूर भी नहीं हैं।

अब तक पर्यटकों को उत्तराखंड के कई स्थानों तक पहुंच प्राप्त हो गई है क्योंकि वे सड़कों से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं। लेकिन अभी भी कई खूबसूरत स्थान हैं जो पर्यटकों के लिए कम पहुंच योग्य हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन जगहों के बारे में ज्यादा जानकारी न होने के कारण पर्यटक इनसे परिचित नहीं हो पाते हैं।ऐसा ही एक हिल स्टेशन है खिर्सू, जो कि उत्तराखंड के पौरी गढ़वाल जिले में स्थित एक छोटा सा हिल स्टेशन है, जहां प्रकृति ने अनोखी कृपा बरसाई है, यह स्थान देहरादून जिले के बहुत करीब है और सड़कों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

यहाँ से होते हैं हिमालय के भव्य दर्शन

इस गांव की सुंदरता को शब्दों में वर्णित नहीं किया जा सकता है, यह 2286 मीटर की ऊंचाई पर प्रकृति की गोद में स्थित है। यह क्षेत्र सेब के बगीचों से घिरा हुआ है, देवदार और देवदार के घने जंगल यहां आपका मन मोहने के लिए काफी हैं। इस जगह पर वह सब कुछ है जो एक घुमक्कड़ी व्यक्ति को चाहिए। यह ट्रैकिंग, प्रकृति की सैर के लिए अच्छा है और चूंकि यह शहरों के कोलाहल से दूर है, इसलिए यह तनाव से राहत दिला सकता है। इतना ही नहीं, यहां आप पहाड़ी व्यंजनों का लुत्फ भी उठा सकेंगे। उदाहरण के तौर पर चैनसू, कप्पा, आलू गुटका का स्वाद चखने का भी मौका मिलेगा।

इस समय इस स्थान पर जाना रहेगा सुखद

अगर हम इसके आसपास की बात करें तो खिर्सू से आपको हिमालय के शानदार दृश्य देखने को मिल सकते हैं। आप एक सुरम्य दृश्य देख सकते हैं जिसमें पंचचूली, नंदा देवी, नंदा कोट और त्रिशूल जैसी चोटियाँ शामिल हैं। खिर्सू उत्तराखंड की एक ऐसी जगह है जहां साल भर मौसम एक जैसा रहता है। यहाँ सर्दियाँ उतनी ठंडी नहीं होतीं और गर्मियाँ भी उतनी गर्म नहीं होतीं। सर्दियों में गाँव बर्फ की चादर से ढक जाता है। खिर्सू की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय बरसात के मौसम के बाद का है जब हरियाली अपने पूरे चरम पर होती है।

यह उन लोगों के लिए सबसे अच्छा गंतव्य है जो जीवन की भागदौड़ से शांति के एक पल की तलाश कर रहे हैं।खिर्सू, पौडी से मात्र 15 किमी की दूरी पर स्थित है। खिर्सू का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है और निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून, हरिद्वार और ऋषिकेश हैं।खिर्सू सभी प्रमुख कस्बों और शहरों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। बस या टैक्सी से पौडी पहुंचने के बाद चार पहिया वाहन से यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है।

Leave a comment