सिर्फ बद्रिनाथ ही नही चमोली में और भी है बहुत कुछ, इसके इतिहास से है सब अनजान

bikram

उत्तराखंड भारत का 18वाँ राज्य है और यह 2 मंडलों में विभाजित है। एक कमिश्नरी गढ़वाल 6 जिलों में विभाजित है। इसका अधिकांश क्षेत्र 2 जिलों चमोली और उत्तरकाशी से आच्छादित है। यह गढ़वाल मंडल का एक खूबसूरत पहाड़ी जिला है, इनमें से चमोली उत्तराखंड के सबसे बड़े जिलों में से एक है और इसके अंदर प्राकृतिक भंडार और संपूर्ण प्राकृतिक वनस्पति से भरपूर है। दूर पर हल्की घास की चादर, पहाड़ी घाटियों से गुजरती ठंडी हवा और साथ में बहती नदियों की संगीतमय शुरुआत। फूलों की घाटी से लेकर बद्रीनाथ जैसे तीर्थस्थल तक चमोली के मुख्य आकर्षणों में गिने जाते हैं। यह वह स्थान भी है जहां से अलकनंदा नदी का उद्गम होता है। गंगा नदी की प्रमुख धाराओं में से एक।

यही लगा था देश का पहला पर्वतीये रोपवे

औली

औली भारत के सबसे प्रसिद्ध हिल स्टेशन में से एक है। यह चमोली से 108 किमी की दूरी पर स्थित है। उत्तर भारत की चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए यह आदर्श विकल्प है। चमोली में स्थित औली हिल स्टेशन उत्तराखंड के सबसे खास पहाड़ी स्थलों में गिना जाता है। औली से नंदा देवी की बर्फ से ढकी चोटियों जैसे स्थान की यात्रा की जा सकती है और यह देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है। यहां आप बर्फ से ढकी चोटियों और रोमांच का आनंद ले सकते हैं

गोपेश्वर

जब आप चार धाम यात्रा पर जा रहे हों तो आप गोपेश्वर नामक स्थान पर आएंगे, यहां से आपका मार्ग बद्रीनाथ और केदारनाथ के लिए विभाजित हो जाएगा। आप चाहें तो प्राकृतिक नजारों के अलावा चमोली में स्थित धार्मिक स्थलों के दर्शन के लिए भी यहां आने का प्लान बना सकते हैं। इस स्थान को वह सीमा क्षेत्र कहा जा सकता है जहां भगवान विष्णु के बाद शिव स्थान प्रारंभ होते हैं। गोपेश्वर में भगवान भोलेनाथ का एक प्रसिद्ध प्राचीन मंदिर भी है।

बसुधारा झरना

चमोली से 143 किमी और बद्रीनाथ से 9 किमी की दूरी पर स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि जब कोई पापी व्यक्ति इसे पार करता है तो पानी की एक बूंद भी उस पर नहीं गिरती है, इस झरने का पानी अलकनंदा नदी में बह जाता है। गढ़वाल के चमोली जिले में वैसे तो कई छोटे-बड़े झरने हैं, लेकिन बसुधारा झरना उनमें से सबसे खूबसूरत है। इस झरने की ऊंचाई लगभग 400 फीट है।

फूलों की घाटी

चमोली दुनिया की एकमात्र ऐसी जगह है जहां आपको अद्भुत पर्वतीय वनस्पतियों को करीब से देखने का मौका मिलेगा। फूलों की घाटी एक प्रमुख ट्रेक मार्ग के लिए प्रसिद्ध है जहाँ गोविंद घाट से शुरू होकर जुलाई से सितंबर तक फूल अपने चरम पर होते हैं। कहा जाता है कि इस जगह पर 2500 से भी ज्यादा फूल हैं। यहां गर्मियों के दौरान प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के लिए आपको 25 किलोमीटर से अधिक की ट्रैकिंग करनी होगी। आप यहां लेने आ सकते हैं.

बद्रीनाथ

बद्रीनाथ भारत के पौराणिक मंदिरों में से एक है जो छोटा चारधाम और बड़ा चारधाम दोनों यात्रा में शामिल है। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है और अलकनंदा नदी के तट पर स्थित है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जब पवित्र नदी गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुई तो वह 12 धाराओं में विभाजित हो गई, जिनमें से एक धारा अलकनंदा के नाम से प्रसिद्ध हुई। बद्रीनाथ के पीछे एक पौराणिक कथा भी प्रसिद्ध है। यहां मंदिर के दरवाजे सिर्फ 6 महीने के लिए खोले जाते हैं, बाकी 6 महीने में खूब बर्फबारी होती है, अप्रैल में मंदिर के दरवाजे भक्तों के लिए खोले जाते हैं और नवंबर महीने में बंद कर दिए जाते हैं।

Leave a comment